पीएम मोदी ने सीताराम केसरी को दलित बताकर की बड़ी गलती

महासमुंद में रैली को संबोधित करते हुए की गलती

नई दिल्ली :

छत्तीसगढ़ के महासमुंद में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधी परिवार को आड़े हांथों लेते हुए एक बहुत बड़ी गलती कर दी । नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को दलित बता दिया।

दरअसल, छत्तीसगढ़ के महासमुंद में रैली को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि दलित सीताराम केसरी को कांग्रेस अध्यक्ष का अपना कार्यकाल पूरा नहीं करने दिया। उन्हें सोनिया गांधी की ताजपोशी के लिए रास्ते से हटाया गया था।

उन्होंने कहा कि एक परिवार की ही चार पीढ़ियों ने देश पर शासन किया और सत्ता में होने का फायदा उठाया, लेकिन देश को उनके शासन का फायदा नहीं हुआ।

पीएम मोदी ने भाषण में कहा कि मेरा सवाल है कि पांच साल के लिए इस परिवार से बाहर के एक व्यक्ति को अध्यक्ष बनाकर देख लीजिए। देश को पता है कि सीताराम केसरी दलित, पीड़ित और शोषित समाज से आए हुए व्यक्ति को पार्टी अध्यक्ष से कैसे हटाया गया था?

कैसे बाथरूम में बंद कर दिया गया था? कैसे दरवाजे से निकालकर फुटपाथ पर फेंक दिया गया था? इसके बाद मैडम सोनिया जी को बैठा दिया गया था।

मोदी ने सीताराम केसरी को दलित बताकर बताकर गलती कर दी। क्योंकि केसरी दलित नहीं थे, बल्कि वो पिछडे़ समाज के वैश्य थे। सीताराम केसरी बिहार के दानापुर के रहने वाले थे।

गौरतलब है कि पीएम मोदी को जवाब देते हुए पी. चिदंबरम ने ट्वीट में 15 अध्यक्षों का जिक्र किया था, जो नेहरू गांधी परिवार से नहीं थे। जिसका जिक्र कर पीएम मोदी चुनावी सभा में निशाना साध रहे थे।

1
Back to top button