दिल्ली में PM नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल ने दी शहीदों को श्रद्धांजलि

नई दिल्ली। ;जम्मू कश्मीर के पुलवामा (Pulwama Terror Attack) में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ (CRPF) के 40 जवान शहीद हो गए. शुक्रवार की देर शाम सीआरपीएफ के शहीद जवानों के पार्थिव शरीर को दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर लाया गया, जहां जवानों को श्रद्धांजलि दी गई. इस दौरान पीएम मोदी और राहुल गांधी ने पुलवामा हमले में शहीद हुए 40 जवानों को श्रद्धांजलि दी. इसके अलावा, शहीद जवानों को गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने श्रद्धांजलि दी.

इससे पहले पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत, नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा और वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने श्रद्धांजलि दी. समाचार एजेंसी ने जो वीडियो जारी किया है, इसमें देखा जा सकता है कि कैसे सभी नम आखों से शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

दरअसल, गुरुवार को सीआरपीएफ का काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था. इस काफिले में करीब 70 गाड़ियां थीं और 2500 जवान शामिल थे. उसी दौरान सामने से विस्फोटक से लदी एक एसयूवी कार आई और उसने सीआरपीएफ की बस में टक्कर मार दी. आतंकवादी ने जिस कार से टक्कर मारी थी, उसमें करीब 350 किलो विस्फोटक थे. इसकी वजह से विस्फोट इतना घातक हुआ कि इसमें 41 जवान शहीद हो गए. इस घटना पर पीएम मोदी ने सीधे तौर पर कहा है कि आतंकी बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं और अब उन्हें इसका अंजाम भी भूगतना होगा.

हमले को लेकर पूरा देश गुस्से में है. पीएम मोदी ने कहा कि आतंaकी संगठनों और उनके सरपरस्त बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं. उन्हें बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी. मैं देश को भरोसा देता हूं, हमले के पीछे जो ताकतें हैं, इस हमले के जो भी गुनहगार हैं, उन्हें उनके किए की सजा अवश्य मिलेगी.

पीएम मोदी ने कहा था कि इस समय बड़े आर्थिक बदहाली के दौर से गुजर रहे हमारे पड़ोसी देश को ये भी लगता है कि वो ऐसी तबाही मचाकर, भारत को बदहाल कर सकता है. उसके ये मंसूबे भी कभी पूरे नहीं होंगे. 130 करोड़ हिंदुस्तानी ऐसी हर साजिश, ऐसे हर हमले का मुंहतोड़ जवाब देंगे. उन्होंने कहा कि पूरे विश्व में अलग-थलग पड़ चुका हमारा पड़ोसी देश अगर ये समझता है कि जिस तरह के कृत्य वो कर रहा है, जिस तरह की साजिशें रच रहा है, उससे भारत में अस्थिरता पैदा करने में सफल हो जाएगा, तो वो बहुत बड़ी भूल कर रहा है. उन्होंने कहा कि जो हमारी आलोचना कर रहे हैं, उनकी भावनाओं को भी मैं समझ रहा हूं. उनका पूरा अधिकार है. लेकिन मेरा सभी साथियों से अनुरोध है कि, ये बहुत ही संवेदनशील और भावुक समय है, इसलिए राजनीतिक छींटाकशी से दूर रहें. इस हमले का देश एकजुट होकर मुकाबला कर रहा है, ये स्वर विश्व में जाना चाहिए. 

Back to top button