राष्ट्रीय

PNB घोटला: नीरव मोदी ने पीएनबी को लिखा पत्र, कहा- बैंक ने खुद बंद किए कर्ज चुकाने के रास्ते

पीएनबी महाघोटाले के मास्टरमाइंड नीरव मोदी ने इस मामले पर पंजाब नेशनल बैंक के मैनेजमेंट को एक पत्र लिखा है.

मुंबई:

पीएनबी महाघोटाले के मास्टरमाइंड नीरव मोदी ने इस मामले पर पंजाब नेशनल बैंक के मैनेजमेंट को एक पत्र लिखा है. नीरव मोदी ने पत्र में कहा है कि पंजाब नेशनल बैंक ने इस मामले को सार्वजनिक करके उससे बकाया राशि वसूलने के सारे रास्ते बंद कर लिए हैं.

नीरव मोदी ने साथ ही दावा किया है कि पीएनबी जितनी बकाया रकम बता रहा है, वो राशि इससे बहुत कम है. मोदी ने बीते 15/16 फरवरी को बैंक मैनेजमेंट को लिखे पत्र में अपने इरादों के बारे में बता दिया है. पत्र में नीरव मोदी ने कहा है कि उसके पास 5,000 करोड़ रुपये से भी कम का बकाया है.

बैंक मैनेजमेंट को लिखे पत्र में नीरव मोदी ने कहा है कि मामले की जानकारी सार्वजनिक होने के बाद मेरी कंपनियों के खिलाफ छापेमारी और संपत्ति जब्त करने का सिलसिला शुरू हो गया है. जिसके कारण बैंकों का बकाया राशि चुकाने की मेरी क्षमता खत्म हो गई है.

नीरव मोदी ने कहा कि ’13 फरवरी को की गई मेरी पेशकश के बावजूद बैंक ने जानकारी 15 फरवरी को सार्वजनिक कर दी. बैंक की इस कार्रवाई ने मेरे ब्रांड और मेरे कारोबार को बर्बाद कर दिया है, जिसके कारण अब बकाया राशि वसूलने की बैंक की क्षमता सिमट कर रह गई है.

बैंक को लिखे पत्र में नीरव मोदी ने बैंक अधिकारियों के साथ अपनी और अपने प्रतिनिधियों की बातचीत का हवाला भी दिया है. इसके अलावा विगत 13 और 15 फरवरी को भेजे अपने ई-मेल का भी जिक्र किया है. नीरव मोदी ने इस घोटाले के सार्वजनिक होने से पहले ही अपने परिवार के साथ जनवरी के पहले सप्ताह में देश छोड़ दिया था.

देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पीएनबी ने बीते 14 फरवरी को स्टॉक एक्सचेंज को जानकारी दी थी कि मुंबई के ब्राडी हाउस शाखा में करीब 11,500 करोड़ रूपए का घोटाला हुआ है. जिसके बाद नीरव मोदी और उसके अंकल मेहुल चौकसी की गीतांजलि ग्रुप और कुछ और डायमंड और ज्वेलरी कारोबारियों पर शक जताया गया था.

Summary
Review Date
Reviewed Item
PNB घोटला: नीरव मोदी ने पीएनबी को लिखा पत्र, कहा- बैंक ने खुद बंद किए कर्ज चुकाने के रास्ते
Author Rating
51star1star1star1star1star

Tags

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.