बिज़नेस

PNB की जानबूझकर कर्ज नहीं लौटाने वालों की बकाया राशि 23 प्रतिशत बढ़ी

नई दिल्लीः घोटाले में फंसे पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के जानबूझकर कर्ज नहीं लौटाने वाले बड़े कर्जदारों की राशि में बढ़ोतरी हुई है। बैंक के 25 लाख रुपए और उससे ऊपर के जानबूझकर कर्ज नहीं लौटाने वालों की राशि में जनवरी को समाप्त केवल आठ महीने में करीब 23 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

पीएनबी के आंकड़े के अनुसार बैंक से 25 लाख रुपए से अधिक का कर्ज ले चुके कर्जदारों पर 31 जनवरी 2018 तक कुल 14,593.16 करोड़ रुपये बकाया था। बैंक ने इस प्रकार का आंकड़ा जून 2017 से देना शुरू किया। उस समय उसका सकल कर्ज बकाया 11,879.74 करोड़ रुपये था। इन आठ महीनों में राशि में 22.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई। बैंक ने 11,400 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का खुलासा किया है। इसमें कथित रूप से जौहरी नीरव मोदी तथा एसोसिएट कंपनियां शामिल हैं। धोखाधड़ी मोदी से संबद्ध कंपनियों को फर्जी गारंटी पत्र (लेटर आफ अंडरटेकिंग) जारी करने से जुड़़ा है ताकि वे भारतीय बैंक की अंतरराष्ट्रीय शाखाओं से कर्ज ले सके। यह काम बैंक अधिकारियों के साथ मिलकर किया गया।

बैंक के अनुसार 31 मार्च 2018 तक कुल 25 लाख रुपए और उससे अधिक के कर्ज जानबूझकर नहीं लौटाने वालों की सूची में फोरएवर प्रीसियस जूलर एंड डायमंड ( 747.97 करोड़ रुपए), किंगफिशर एयरलाइंस ( 597.44 करोड़ रुपए), जूम डेवलपर्य ( 410.18 करोड़ रुपए) तथा एमबीएस जूलरी प्राइवेट लि. (266.17 करोड़ रुपए ) शामिल हैं। पीएनबी जून 2013 से जानबूझकर कर्ज नहीं लौटानों वालों की सूची जारी कर रहा है और यह प्रक्रिया 31 मई 2017 तक जारी रही। उसके बाद बैंक ने जून 2017 से केवल उन लोगों और कंपनियों के नाम जारी करने शुरू किये जिनपर 25 लाख रुपये या उससे अधिक कर्ज है और उन्होंने जानबूझकर ऋण नहीं लौटाया।

Tags
advt

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.