छत्तीसगढ़

पोड़ी उपरोड़ा नकल साखा बाबू हरिशंकर जायसवाल की मनमानी के चलते पोड़ी उपरोड़ा तहसील के चक्कर लगा रहे किसान

अधिकारी भी नही दे रहे ध्यान

रितेश गुप्ता

पोड़ी उपरोड़ा : शासन द्वारा किसानों के लिए कितनी ही सरलता कर दी जाए, लेकिन किसानों को तहसील में पदस्थ लिपिकों की मनमानी का शिकार होना पड़ रहा है। वहीं लोक सेवा केंद्र के माध्यम से शासन द्वारा नक्लें प्रदाय की जाती है, लेकिन तहसील कार्यालय में नकल शाखा में पदस्थ बाबू हरीशंकर जायसवाल के मनमानी के चलते किसान परेशान हैं।

किसानों से पैसों की मांग की जाती है, पैसे नहीं देने पर नकल अपूर्ण या आवेदन किसी कारण लगाकर निरस्त कर दिया जाता है। चूंकि पोड़ी उपरोड़ा जिसके अंतर्गत 100 से अधिक ग्राम पंचायत आते है , जिसमे अधिकतर गाँव 100 किलोमीटर या उससे भी अधिक दूरी पर है , जिससे कि एक नकल के लिए गरीब किसानों को इतनी दूरी तय करके जाना पड़ता हैं उसके बावजूद किसानों को वापस लौटा दिया जाता है ,
जो कि बाबुओ की मनमानी व अधिकारियों की लापरवाही को प्रदर्शित करती है

सभी को नकल के लिए पोड़ी तहसील ही जाना पड़ता हैं ,

नकल के लिए रिश्वत मांगने और लोगों से अभद्र व्यवहार करना तहसील नकल शाखा बाबु हरिशंकर के लिए आम बात हो गया है ,
मीडिया कर्मी से भी अभद्र व्यवहार करने से नही चूकते नकल साखा का बाबू हरिशंकर

उल्लेखनीय है कि तहसील में नकल शाखा बाबु हरिशंकर की मनमानी महीनों से चल रही थी। लोगों को नकल के लिए सैकड़ों चक्कर लगाने पड़ रहे थे और बिना पैसे के नकल नहीं मिलने की मौखिक शिकायत परेशान लोगों ने कई बार तहसीलदार से भी की है ,

किंतु किसी प्रकार की कार्यवाही ना होना ऐसे बाबुओ के हौसले बुलंद करता है , अब देखना यह होगा कि अधिकारी क्या कार्यवाही करते है

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button