सप्तम राष्ट्रीय अधिवेशन में छत्तीसगढ़ के कवियों ने किया काव्यपाठ

ष्ट्रीय कवि संगम द्वारा आयोजित दो दिवसीय सप्तम राष्ट्रीय अधिवेशन वृन्दावन के श्री कृष्णजन्माष्टमी आश्रम में संपन्न

वृन्दावन:राष्ट्रीय कवि संगम द्वारा आयोजित दो दिवसीय सप्तम राष्ट्रीय अधिवेशन वृन्दावन के श्री कृष्णजन्माष्टमी आश्रम में संपन्न हुआ. छत्तीसगढ़ के 62 कवियों सहित देश के 478 कवियों साहित्यकारों की पावन उपस्थिति से कार्यक्रम सफलता की चरम पर संपन्न हुआ. कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ की मासिक पत्रिका कविता कुञ्ज, रायपुर के हर्ष व्यास की पुस्तक शव को शिवम् कर दो एवं कोरिया के गिरीश तिवारी की पुस्तक दिशा का विमोचन मुख्यातिथि के करकमलो से हुआ.

कवियों को मंच देने व युवा कवियों को राष्ट्रीय विचारधारा से जोड़ने के उदेश्य से, पिछले एक दशक से कार्य रही साहित्यिक संस्था राष्ट्रीय कवि संगम के सप्तम् राष्ट्रीय अधिवेशन वृन्दावन में इस वर्ष हमारे जिले के राष्ट्रीय कवि संगम छत्तीसगढ़ प्रांतीय कार्यालय मंत्री मनोज शुक्ला, अध्यक्ष शैलेष गुप्ता व सचिव तारिक ललानी ने काव्यपाठ किया.

प्रदेश कार्यालय मंत्री मनोज शुक्ला ने बताया की इस वर्ष छत्तीसगढ़ प्रान्तीय संरक्षक चतुर्भुज अग्रवाल, प्रांतीय अध्यक्ष योगेश अग्रवाल, प्रांतीय संगठन मंत्री महेश कुमार शर्मा, प्रांतीय उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ कवि रामेश्वर वैष्णव , प्रांतीय कोषाध्यक्ष सौरभ केडिया, प्रांतीय समन्वय मंत्री कमल शर्मा, प्रांतीय कार्यलय मंत्री मनोज शुक्ला, बिलासपुर संभाग संयोजक विजय राठौर, कोरिया संभाग संयोजक सपन सिन्हा सहित छत्तीसगढ़ के 62 साहित्यकारों ने अधिवेशन में अपनी उपस्थिति दर्ज करायी.

कार्यक्रम पावन धारा के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य एवं मोटिवेशनल गुरु पवन सिन्हा जी के मुख्यातिथ्य, वीररस के बड़े कवि डॉ हरिओम पवार जी की अध्यक्षता, बाबा सत्यनारायण मौर्या, विनोद गुप्ता राज्यसभा सांसद,बलवीर सिंह करुण, जगदीश मित्तल, चतुर्भुज अग्रवाल, योगेश अग्रवाल के विशेष आतिथ्य में माँ सरस्वती के तैलचित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर हुआ. श्री सिन्हा जी ने संबोधित करते हुए कहा की जो आजादी कवियों को कहने की है वह किसी को नही है हमें इस आजादी को बनाये रखना चाहिए. द्वितीय सत्र में प्रांतीय इकाइयों द्वारा प्रतिवेदन सुझाव पढ़ा गया. जहाँ छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व बेमेतरा के कमल शर्मा ने किया. तृतीय सत्र संग़ठन संबधी चर्चा एवं सुझाव के साथ संपन्न हुआ.

चतुर्थ सत्र में विभिन्न प्रान्त से आये कवियों द्वारा काव्यपाठ किया गया. राजनांदगांव के शैलेष गुप्ता व तारिक ललानी ने अपनी प्रस्तुति से खूब वाहवाही तालियां बटोरी. राष्ट्रीय कवि संगम द्वारा एक नया प्रयोग धरोहर कवि सम्मेलन के शीर्षक पर किया गया इस कार्यक्रम में कवियों द्वारा अन्य कवियों की कालजयी रचनाओं का पाठन करना था. बालकवि कृतार्थ साहू ने दिनकर जी रचना पढ़ते हुये श्रोताओं के मन मोह लिया, ओज शर्मा एवं हर्ष व्यास ने भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लेकर छत्तीसगढ़ का नाम गौरवान्वित किया. अंतिम समापन सत्र इन्द्रेश कुमार जी के मुख्यातिथ्य में संपन्न हुआ. जिनकी ओजस्वी वाणी ऊर्जा देने वाली थी. आभार प्रदर्शन राष्ट्रीय अध्यक्ष जगदीश मित्तल द्वारा किया गया.

राष्ट्रीय कवि संगम छत्तीसगढ़ प्रान्त इकाई के कवियों का राष्ट्रीय अधिवेशन में भाग लेने व ऊर्जा के साथ अपनी छाप छोड़ने प्रदेश महामंत्री राजेश जैन राही, उपाध्यक्ष अमित पुरोहित, रायपुर संभाग संयोजक लक्षमीनारायण लाहोटी, बस्तर संभाग संयोजक राजाराम त्रिपाठी, दुर्ग संभाग संयोजक किशोर तिवारी , रायपुर अध्यक्ष उर्मिला देवी उर्मी , मुंगेली जिला इकाई संयोजक देवेन्द्र परिहार सहित सभी सदस्यों ने बधाई प्रेषित की है.

Back to top button