छत्तीसगढ़

जीजा की हत्या कर शव दफनाने के मामले में आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

- रितेश गुप्ता

पसान: मामला डेढ़ माह पूर्व दर्रीपारा निवासी अनिल चौधरी के गायब होने की सूचना उसके भाई दुर्गेश चौधरी पिता हीरा चौधरी ने पसान थाने रिपोर्ट दर्ज कराई। तभी कुछ दिन बाद ग्राम पसान के दर्रीपारा में एक अज्ञात शव के शरीर का कुछ हिस्सा देखकर अपने भाई अनिल चौधरी का शव होने की संदेश पर दुर्गेश चौधरी ने मर्ग कायम कराया गया। तत्पश्चात शव को विधिवत मजिस्ट्रेट के उपस्थिति में शव उत्खनन कराया गया जिसमे शव के कपड़े, एवं शारीरिक बनावट के आधार पर शव को अनिल चौधरी का होना पाया गया।

अनिल चौधरी को उसके ससुराल वालों के द्वारा मारकर हत्या कर शव को छुपाने के नियत से शव को दफन कर देने की संदेश पर अज्ञात आरोपी के विरुद्ध थाना में अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना लिया गया। विवेचना दौरान संदेशी आरोपी राजकुमार चौधरी एवं उसके परिवार वालो की पता तलाश की जा रही थी। पतासाजी दौरान ग्राम लरघाडंडी थाना कोटाडोल जिला कोरिया में पता चलने पर पुलिस द्वारा एक टीम यहाँ भेजी गई । पुलिस वाहन को अपने घर तरफ आते देख राजकुमार उसकी नानी जमुना बाईं उसकी बहन फूलमती घर से भाग गए।

पुलिस पहुँचने पर आरोपी के पिता द्वारा पुलिस को गुमराह किया गया कि घर के सभी सदस्य सुबह पसान गए है। संदेह के आधार पर राजकुमार चौधरी की पतासाजी की जा रही थी। उसी दौरान14/06/19 को राजकुमार को पसान दर्रीपारा में देखे जाने की सूचना पर रात्रि में दबिश देकर राजकुमार को पकड़ा गया। थाने में पूछताछ करने पर राजकुमार ने बताया घटना दिनांक 24/3/19 को होली के तीसरे दिन इसकी छोटी बहन कु -प्रभा के साथ गलत नियत रखकर आये दिन छेड़छाड़ करता था।

घटना समय मे अनिल शराब पीकर छेड़छाड़ कर रहा था, आरोपी द्वारा विरोध किये जाने पर इसके जीजा मृतक अनिल चौधरी द्वारा गाली गलौच एवं मारपीट करने पर आरोपी राजकुमार चौधरी द्वारा आँगन में पड़े टांगी से अनिल चौधरी के सिर में टांगी के पासे की तरफ से तीन बार घातक प्रहार कर हत्या कर दिया गया । घटना के सम्बंध में किसी को पता न चले सोंचकर शव को अपने पिता , भाई , नानी , एवं बहनो के सहयोग से शव को घर के पास करीब 30 मीटर की दूरी पर आम पेड़ के पास दफन कर दिया।

चूँकि शव जमीन के ऊपरी हिस्से में होने से 10 -15 दिन बाद शव से बदबू आने लगा तब पुनः राजकुमार अपने भाई नानी के मदद से अनिल चौधरी के शव को घर से करीब 300 मीटर की दूरी पर सुखनंदन रजक के खेत मे गड्ढा कर दफन कर दिया। चुकी रात्रि में घबराहट की वजह से शव को अच्छे से दफन नही कर पाया।

शव का कुछ हिस्सा दिखाई दे रहा था जिसे आसपास के महिलाओं ने बकरी चराते समय देखा। इसी बीच मृतक का भाई संतोष चौधरी सेन्हा को पता चला तब वह शव को देखने गया जिसको अनिल चौधरी का होना संदेश जाहिर कर अनिल चौधरी के भाई दुर्गेश चौधरी भालूमाड़ा जिला अनूपपुर म.प्र को सूचना दिया तब दुर्गेश चौधरी द्वारा अपने भाई की हत्या होने की संदेश पर थाना पसान में मर्ग ईटीमेशन एवं प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराया। विवेचना के दौरान दिनांक 15/06/2019 को आरोपी राजकुमार को पुलिस हिरासत में पूछताछ कर गवाहों के मेमोरंडम कथन के आधार पर। आरोपी के बाड़ी में फेका गया टांगी को ज़ब्त किया गया।

तथा आरोपी द्वारा मृतक अनिल चौधरी की हत्या कर शव को अपने परिवार पिता सुखसेन चौधरी, नानी जमुना बाई, दीदी फूलमती, भाई नाबालिग रवि, नाबालिग बहन कु प्रभा के सहयोग से शव को छुपाना जुर्म स्वीकार करने पर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया।

Tags
Back to top button