छत्तीसगढ़

पुलिस ने लांघी कांग्रेस भवन की हद

युवाओं पर रैली की लिए अनुमति नहीं लेने का आरोप
संगठन से जुड़े लोगो ने कहा दबाव में की गई गलत कार्रवाई
मामला कांग्रेस में वापस लौटे कवासी हरिश के स्वागत का

— अनुराग शुक्ला

जगदलपुर. शहर के कांग्रेस भवन में सोमवार को एक नया वाक्या देखने को मिला यहां कांग्रेस में प्रवेश के बाद पहुंचे जिला पंचायत अध्यक्ष सुकमा हरीश कवासी के स्वागत के बाद रैली के शक्ल में युवाओं की टोली कांग्रेस भवन पहुंची थी। इस बीच कुछ पुलिस अधिकारी और कर्मचारी इस बात को लेकर कांग्रेस भवन के अंदर दाखिल हुए कि इस रैली की अनुमति नहीं हुई है। रैली के दौरान प्रमुख तौर पर मौजूद लोगो को सीएसपी मोनिका ठाकुर के आदेश पर थाने ले जाया जाएगा।

यह पहला मौका है जब पुलिस किसी आपात स्थिति के बिना किसी राष्ट्रीय पार्टी के कार्यालय में प्रवेश कर बैठी। यही नहीं यहां से यूथ कांग्रेस के विक्रांत सिंह और अजय बिसाई को कार्र्यालय से बाहर लाया गया और उन्हें थाने चलने को कहा गया। इस बीच मौके पर सीएसपी मोनिका ठाकुर भी पहुंची और उन्होंने यूथ कांग्रेसियों से कहा कि रैली निकालने को लेकर उन्होंने किसी तरह की सूचना नहीं दी है। इससे शहर का यातायात बाधित हुआ है और किसी तरह की सुरक्षा के अभाव में किसी अप्रिय घटना की भी संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। ऐसे में युवा नेताओं को थाने चलना होगा।

अजय बिसाई ने सीएसपी को बताया कि उन्होंने एसडीएम कार्यालय में स्वागत और रैली की जानकारी देनी चाही लेकिन वहां कोई मौजूद नहीं था। इस बीच सीएसपी कार्यालय में भी इस आयोजन को लेकर जानकारी दी गई। यही नहीं यातायात प्रभारी मोहसिन खान के हाथ में भी आवेदन सौंपा गया। बावजूद इसके पुलिस जिस तरह से प्रेरित होकर कार्रवाई कर रही है वो गलत है। सीएसपी इसके बाद मौके से रवाना हुईं। हालांकि पुलिस कर्मचारी अभी भी असमंजस में थे कि युवा नेताओं को थाने ले जाना है। जब सभी युवा एकजुट होकर थाने जाने की बात करने लगे तो पुलिस का अमला मौके से रवाना हुआ।

गीदम रोड से हुआ स्वागत

शहर आने पर युवाओं की टीम ने कवासी हरिश का गीदम रोड से पुराने बीपीएस के सामने से स्वागत किया। यहां से युवाओं की टोली बाइक में सवार होकर रैली के शक्ल में निकली। हालांकि इन्हें गीदम रोड से सीधे कांग्रेस भवन आना था लेकिन रैली गुरूगोबिंद सिंह चौक से कटकर आकाशवाणी मार्ग होते चांदनी चौक और मुख्य मार्ग से गुजरते कांग्रेस भवन पहुंची। पुलिस ने रूट बदलते देख इस रैली को रोकना चाहा लेकिन आतिशबाजी और नारेबाजी के बीच युवाओं की टीम नहीं रूकी। युवाओं ने अपने नेता का जमकर स्वागत किया।

अध्यक्ष व वरिष्ठ कांग्रेसी मानते हैं गलत

कांग्रेस भवन मे पुलिस के प्रवेश को लेकर कांग्रेस के अध्यक्ष जतीन जायसवाल और वरिष्ठ कांग्रेसी उमाशंकर शुक्ला ने कहा है कि किसी भी संगठन कार्यालय में प्रवेश से पहले यदि कोई आपात स्थिति नहीं होती है तो पुलिस को संगठन के पदाधिकारी या फिर अध्यक्ष को सूचित करना अनिवार्य है। नियम का हवाला देते बताया गया कि वीवीआईपी या फिर सुरक्षा प्रदान नेता या अपराधिक प्रवृत्ति के व्यक्ति के धरपकड़ को लेकर पुलिस का प्रवेश जायज है। यहां पर ऐसी कोई स्थिति नहीं थी। वरिष्ठ नेता ने कहा 0है कि करीब चार दशक में ऐसा देखने में आया है कि बड़े से बड़े आंदोलन में पुलिस संगठन के कार्यालय से दूरी बनाकर ही रखती है। जो भी कार्रवाई होती है उसके लिए पुलिस इंतजार करती है। सोमवार को पुलिस की कार्रवाई प्रेरित और गलत दिखती है।

Back to top button