चूहे खा गए गांजा

जगदलपुर. 30 सालों से जगदलपुर जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में रखे पकड़े गए गांजें को चूहें अपना भोजना बना रहे थे। पुलिस ने चूहों और दूसरे जीव-जतुओं से बचाए गए गांजें की बड़ी खेप को आग के हवाले कर दिया।

जगदलपुर जिले में बीते 30 सालों के दौरान अलग-अलग थाना क्षेत्रों में गांजे तस्करी के जितने भी प्रकरण दर्ज किए गए। उन पर कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। कई मामले खत्म हो चुकें है तो कई मामलों के आरोपी छूट भी चुके है।

लेकिन गांजा तस्करी के दौरान थानों में रखा गांजा पुलिस के लिए काफी ज्यादा सिरदर्द बना हुआ था। जिस पर पुलिस ने कार्यपालि मस्जिट्रेट और ड्रग डिस्पोजल कमेटी की देखरेख में करीब 10 किव्ंटल गांजें को आग के हवाले कर दिया।

एएसपी विजय पांडे के मुताबिक गांजे को नष्ट करने के लिए पुलिस के द्वारा सात सदस्यीय टीम बनाई गई थी। जिसमें कांकेर, कोडांगाव और जगदलपुर पुलिस जिले के अधिकारियों को शामिल किया गया था। काफी बड़ी मात्रा में थानों में रखे गए गांजें को इकटठा करके पुलिस ने शहर से लगे करकापाल के जंगलों में ले जाकर आग के हवाले कर दिया।

इसके लिए बकायदा एक गड्ढा खोदा गया। उसमें 10 किवंटल गांजें को रखने के बाद उसे जलाकर उस गड्ढे को भर दिया गया। ताकि उसकी बदबू आसपास के इलाके में न फैले। पुलिस द्वारा जलाए गए गांजे की कीमत करीब 50 लाख के आसपास बताई जा रही है। अब जिले के थानों में सिर्फ वहीं गांजा रखा है। जिसका मामला कोर्ट में चल रहा है।

Back to top button