छत्तीसगढ़

थाना खल्लारी के ग्राम खुटेरी में हुए अंधे कत्ल की गुत्थी पुलिस ने सुलझाई

प्रेमिका ने अपने पति और देवरों के साथ की युवक की हत्या

महासमुंद।21 वर्षीय बेटे के 26 नवंबर को अपनी मां को उसके मायके से लाने के नाम पर निकलने के बाद वापस घर नहीं लौटने की रिपोर्ट दर्ज कराने वाले परिजन को आखिरकार न्याय मिला. खल्लारी थाना में गुम इंसान दर्ज कर जांच में जुटी पुलिस को ग्रामीण के खाली पड़े निवास के कुंए में शव मिला.

मामले में प्रेमिका ने अपने पति और देवरों के साथ युवक के हत्या के आरोपी पाए गए हैं. आरोपियों ने बेहोशी की हालत में युवक को कुंए में फेंका था. शव को बाहर निकालने के बाद उसकी पहचान योगेश के रूप में की गई.

शव तीन-चार दिन पुराना होने के साथ मृतक के योगेश कुमार के सिर में तीन चोटे धारदार हथियार से मृतक के बाई आंख के बाजू में गहरा घाव का निशान पाया गया. मृतक के शार्ट पीएम रिपोर्ट में सिर व चेहरे में धारदार हथियार से चोट पहुंचाकर हत्या करने के साथ मृतक को बेहोशी की हालत में कुंए में फेकने से मौत होना पाया गया. इस पर अज्ञात आरोपी के विरूद्ध धारा 302, 201 भावदि पंजीबद्ध कर जांच में लिया गया.

जांच में मृतक योगेश कुमार सेन व संदेही लेखराम पटेल उर्फ बालाराम पटेल की पत्नी भुनेश्वरी पटेल के बीच प्रेम संबंध होना पता चला. इसके आधार पर संदेही लेखराम के साथ भुनेश्वरी पटेल से पृथक-पृथक पूछताछ की गई.

जिसमें बात सामने आई कि मृतक योगेश सेन का सेलून और आरोपिया भुनेश्वरी पटेल की फोटोकाॅपी, च्वाईस सेंटर ग्राम खुटेरी मेनरोड़ किनारे पर है. दुकान में खाली समय पर एक-दूसरे से बातचीत में दोनों के बीच नजदीकी होने से प्रेम संबंध बन गया.

इस बात की जानकारी भुनेश्वरी पटेल के पति लेखराम को होने पर वह परिवार में बदनामी होने से डरने लगा था. इस बीच 26 नवंबर को रात करीबन 10-11 बजे मृतक योगेश शराब के नशे में धुत होकर लेखराम के घर पहुंच गया और भुनेश्वरी के बिना नहीं रह पाने की बात कहते हुए अपने घर ले जाने पर अड़ गया.

इस पर गुस्साए लेखराम ने टंगिया निकालकर योगेश पर ताबड़तोड़ तीन-चार वार कर दिया, जिससे वह जमीन पर गिरकर छटपटाने लगा. ऐसे में लेखराम ने बेहोश योगेश को ठिकाने लगाने के लिए अपने चचेरे भाई उमेश पटेल और सुरेश पटेल को बुलाकर अपनी पत्नी के साथ मिलकर अपने मकान से लगे करीब दो-ढ़ाई फीट उंचे दीवाल को पारकर मनहरण पांडे के खंडहरनुमा बाड़ी के कुंआ में फेंक दिया.

योगेश सेन को फेंकते समय सभी के कपड़े खून से सन गए थे, जिन्हें तालाब पास जला दिए और टंगिया के साथ अपना खून लगा कपड़ा के मनहरण के बाड़ी में ही केला पेड़ के नीच छिपा दिया. आरोपियों की अपराध स्वीकारोक्ति के बाद उन्हें गिरफ्तार कर कब्जे से घटना में प्रयुक्त टंगिया, खून से लगा कपड़ा जब्त किया गया.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button