गडकरी के बयान से चढ़ा स‍ियासी पारा, ओवैसी ने जमकर साधा निशाना

बयान की गलत व्याख्या करने का किया दावा

नई दिल्ली: केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एक सभा में वादाखिलाफी करने वाले नेताओं को आड़े हाथों लिया। गडकरी ने रविवार को सभा को संबोधित करते हुए अपने बयान ने स‍ियासत का पारा चढ़ा द‍िया है.

उन्होने सभा में कहा कि ”सपने दिखाने वाले नेता लोगों को अच्छे लगते हैं, पर दिखाए हुए सपने अगर पूरे नहीं किए तो जनता उनकी पिटाई भी करती है, इसलिए सपने वही दिखाओ जो पूरे हो सकें. मैं सपने दिखाने वाले में से नहीं हूं. मैं जो बोलता हूं वो 100 फीसदी डंके की चोट पर पूरा होता है.”

उनके इस उनके इस बयान पर न‍िशाना साधते हुए एआईएमआईएम के अध्‍यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, वह पीएम मोदी को आईना दिखा रहे हैं. जैसे ही गडकरी का ये बयान सामने आया, सभी ने अपने अपने ढंग से इसे पर‍िभाषि‍त करना शुरू कर दि‍या. इससे पहले अच्‍छे द‍िनों पर उनके बयान पार्टी के लिए बड़ी मुसीबत बन चुके हैं.

इससे पहले राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार के बाद पार्टी के बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष गडकरी ने यह बयान देकर विवाद पैदा कर दिया था कि पार्टी के नेतृत्व को हार और असफलताओं को स्वीकार करना चाहिए.

जहां उन्होंने इस बयान की गलत व्याख्या करने और गलत तरीके से लिखने का दावा किया, कई लोगों ने ये बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के लिए माना. इसके बाद मोदी के स्थान पर गडकरी को लाने की मांग होने लगी.

गडकरी को उप-प्रधनमंत्री बनाने की मांग

महाराष्ट्र के प्रमुख किसान नेता किशोर तिवारी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को पत्र लिखकर मोदी के स्थान पर गडकरी को लाने की मांग की, वहीं भाजपा के वरिष्ठ नेता संघप्रिय गौतम भी जनवरी में ही गडकरी को उप-प्रधानमंत्री बनाने की मांग कर चुके हैं.

1
Back to top button