सि-विजिल और कंट्रोल रुम से राजनैतिक दलों पर पैनी नजर

जगदलपुर : लोकसभा निर्वाचन 2019 के दौरान राजनैतिक दलों और अभ्यर्थियों द्वारा मतदाताओं को नगद राशि, शराब, कपड़ा, बर्तन, खेल सामान, वाद्य यंत्र देने या सामुहिक भोजन कराने, मतदाताओं को डरा-धमकाकर परिणाम को प्रभावित करने वालों पर सी-विजिल एप्प और कंट्रोल रुम के माध्यम से कड़ी नजर रखी जा रही है। इसके साथ ही राजनैतिक दलों और अभ्यर्थियों द्वारा प्रचार-प्रसार के लिए निर्धारित नियमों का उल्लंघन का करने वालों पर भी कड़ी नजर रखी जा रही है। उल्लेखनीय है कि अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित 10 बस्तर लोकसभा क्षेत्र में 11 अप्रैल को मतदान है।

स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने मोबाइल एप्प सी-विजिल लांच किया है। इस एप्प के जरिए आमजन आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की रिपोर्ट कर सकेंगे। यह एप्प निर्वाचन की घोषणा की तिथि से प्रभावी हो चुकी है और मतदान के एक दिन बाद तक बनी रहेगी। लोकसभा आम चुनाव 2019 से पूर्व छत्तीसगढ़ विधानसभा 2018 में पहली बार इस एप्प का प्रयोग किया गया था। कोई भी व्यक्ति इस ऐप के जरिए कहीं भी आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी दे सकेगा। सी विजिल एप चुनावी गड़बड़ियों पर तत्काल लगाम लगाने में सहायक होगा। इस एप के आने से नागरिकों को चुनाव के संबंध में शिकायत दर्ज कराने के लिए निर्वाचन कार्यालय की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी।

सी विजिल एप के लिए कैमरा, इंटरनेट कनेक्शन और जीपीएस वाला एन्ड्रायड स्मार्ट फोन जरूरी होगा। शिकायत के लिए जागरूक नागरिक को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की एक तस्वीर या अधिक से अधिक दो मिनट का वीडियो रिकॉर्ड कर इस एप पर भेजना है। इसमें शिकायतकर्ता की पहचान गुप्त रखी जाएगी। सबूत आधारित शिकायत का निस्तारण अधिकतम 100 मिनट में किया जा सकेगा।

जीपीएस की मदद से शिकायत वाले स्थान की पहचान की जा सकेगी। इसके लिए शिकायतकर्ता को एक यूनिक आईडी मिलेगी, जिससे वह आगे की कार्रवाई जान सकेगा। शिकायत दर्ज होने के बाद सूचना जिला नियंत्रण कक्ष के पास जाएगी। इसके बाद कार्यवाही के लिए उड़नदस्ता दलों को निर्देशित किया जाएगा। इस एप पर केवल आदर्श आचार संहिता उल्लंघन की ही शिकायत की जा सकेगी।

चुनाव प्रचार के दौरान व मतदान के दिन आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के कई मामले सामने आते हैं और कई स्थानों से विवाद की बातें भी सामने आती हैं पर शिकायतें सही स्थान तक नहीं पहुंच पाती और उल्लंघन मामलों पर सही कारवाई नहीं हो पाती। सी-विजिल एप्प लोगों के लिए एक ऐसा माध्यम होगा, जिससे आम लोग आसानी से किसी भी प्रत्याशी के आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के प्रमाण सीधे आयोग को भेज पाएंगे। इस मामले की तुरंत सत्यता की जांच भी हो सकेगी और मामले में क्या कारवाई की जा रही है अथवा क्या कार्रवाई की गई, इसकी पूरी जानकारी भी शिकायतकर्ता को प्राप्त हो सकेगी।

इसके साथ ही निर्वाचन आयोग के टोल फ्री नम्बर 1950 में भी लोकसभा निर्वाचन के दौरान आदर्श आचरण संहिता के उल्लंघन से संबंधित शिकायत दर्ज की जा सकती है। लोकसभा निर्वाचन- 2019 के दौरान शिकायत सेल के दूरभाष क्रमांक 07782-222661, बस्तर जिला निवार्चन कार्यालय के कंट्रोल रूम नम्बर 07782-224046 व 07782-222430 में भी शिकायत प्राप्त करने के लिए चौबीसों घंटे कर्मचारियांे की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही व्यय अनुवीक्षण सेल जिला पंचायत जगदलपुर में दूरभाष क्रमांक 07782-222324, उड़न दस्ता दल हेतु दूरभाष क्रमांक 07782-222328 विडियो अवलोकन टीम हेतु दूरभाष क्रमांक 07782-222328 स्थैतिक निगरानी दल हेतु दूरभाष क्रमांक 07782-222328 स्थापित किया गया है।

Back to top button