वोट बैंक की राजनीति ही महागठबंधन की नीति, BJP की सर्वोच्च प्राथमिकता देश की हिफाजत: शाह

छपरा (बिहार)। पूर्ववर्ती कांग्रेस नीत संप्रग सरकार पर आतंकवाद पर गलत नीति अपनाने का आरोप लगाते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को आरोप लगाया कि वोट बैंक की राजनीति ही महागठबंधन की नीति रही है लेकिन भाजपा सरकार आतंकवाद को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी और उसके लिए देश की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है।

छपरा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि एयर स्ट्राइक से अमेरिका और इस्राइल के बाद भारत तीसरा देश बन गया है जो दुश्मन को उसके घर में घुसकर मार सकता है। इससे भारत एक निर्णायक राष्ट्र के रूप में प्रतिष्ठित हुआ है।

उन्होंने आरोप लगाया कि एयर स्ट्राइक के बाद एक ओर देश में उत्साह का माहौल था तो दूसरी ओर पाकिस्तान सहित राहुल गांधी एंड कंपनी के कार्यालय में मातम छाया हुआ था। इन्हें लगा कि यह चुनाव में मुद्दा बन जायेगा। ये वोट बैंक की राजनीति ही महागठबंधन वालों की नीति है।

शाह ने कहा, ”मैं राहुल गांधी एंड कंपनी से पूछना चाहता हूं कि पाकिस्तान के आतंकवादी मरे तो आपके चेहरे का नूर क्यों गायब हो गया?” उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस की आतंकवाद पर जो भी गलत नीति रहे लेकिन भारतीय जनता पार्टी की सरकार की आंतकवाद के प्रति जीरो टालरेंस की नीति रही है। देश की सुरक्षा से हम किसी कीमत पर समझौता नहीं कर सकते। देश की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

भाजपा अध्यक्ष ने जोर दिया कि देशभर में नरेन्द्र मोदी के नाम का नारा लग रहा है, ये नारा बताता है कि देश की जनता फिर से एक बार मोदी सरकार बनाने वाली है। ये नारा देश की जनता की पुकार है, उसका आशीर्वाद है। उन्होंने कहा कि मायावती जी ने कहा है कि नरेन्द्र मोदी जी पिछड़ी जाति से नहीं हैं। मैं उनसे कहना चाहता हूं कि वो झूठ फैलाना बंद करें। मोदी जी पिछड़ी जाति से नहीं, अति पिछड़ी जाति से आते हैं।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने जोर दिया कि कांग्रेस और राजद की कंपनी तो केवल तुष्टकीकरण के सहारे है और देश में मोदी की गूंज है। देश की जनता मोदी के नेतृत्व में भारत के विकास की अनवरत यात्रा में सारथी बनना चाहती है।

उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने की मांग 1955 से चली आ रही थी लेकिन पहले कांग्रेस और उसके बाद बसपा और राजद ने इसकी अनदेखी की। यह मोदी सरकार है जिसने इस संकल्प को पूरा किया और मुजफ्फरपुर के भगवान लाल सहनी को इसका पहला अध्यक्ष नियुक्त कर बिहार का नाम इतिहास में दर्ज कराया।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि जब से बिहार में नीतीश कुमार और सुशील मोदी ने शासन संभाला है तब से राज्य को लालू राबड़ी के जंगलराज से मुक्ति मिली है और सुशासन का राज कायम हुआ है। शाह ने जोर दिया कि बिहार में राजग की डबल इंजन वाली सरकार से विकास दिन दुनी रात चौगुनी गति से आगे बढ़ रहा है। बिहार की जनता इस डबल इंजन वाली ट्रेन में 40 सीटों पर भाजपा और राजग की विजय का ईंधन भरकर नरेन्द्र मोदी को दुबारा प्रधानमंत्री बनाने के लिये एकजुट हो जाएं।

Back to top button