चुनावी तारीखों के ऐलान से पहले CM ममता के निवास पर पूजा

BJP ने कही ये बात

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल (West Bengal) समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान आज ही हो सकता है, इसी बीच बंगाल में राजनीतिक दलों की तैयारियां जोरो पर है। पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने अपने आवास पर विशेष पूजा का आयोजन किया। सीएम ममता के कोलकाता स्थित मुख्यमंत्री आवास पर विशेष पूजा का आयोजन हो रहा है, जिसमें स्वयं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भी मौजूद रहने की संभावना है।
अभिषेक बनर्जी का आरोप

इससे पहले तृणमूल कांग्रेस सांसद अभिषेक बनर्जी ने गुरुवार को आश्चर्य जताया कि कैसे भाजपा ‘जय बांग्ला’ का नारा लगाने के लिये राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी को बांग्लादेश समर्थक बताती है जबकि उसका अपना नारा सोनार बांग्ला पड़ोसी देश के राष्ट्रगान का हिस्सा है। तृणमूल कांग्रेस की युवा इकाई के अध्यक्ष बनर्जी ने आरोप लगाया कि मतुआ समुदाय बहुल क्षेत्र ठाकुरनगर में उन्हें आने से रोकने के लिये हेलीपैड पर पानी बहा दिया गया था।

बनर्जी ने ठाकुरनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, वे जय बांग्ला का नारा लगाने के लिये हमें बांग्लादेश समर्थक कहते हैं। उनका अपने नारे ‘सोनार बांग्ला’ के बारे में क्या कहना है, जो बांग्लादेश का राष्ट्रगान है।” ‘जय बांग्ला’ बांग्लादेश के मुक्ति संग्राम के दौरान लोकप्रिय नारा था जबकि भाजपा विधानसभा चुनाव में जीत के बाद सत्ता में आने पर राज्य को ‘सोनार बांग्ला’ बनाने का वादा कर रही है।

उन्होंने केंद्रीय मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा का वस्तुत: उल्लेख करते हुए कहा, मैं इस मिट्टी का धरतीपुत्र हूं। मैं आपकी तरह बाहरी नहीं हूं। बंगाल के मतदाता आपको खारिज कर देंगे।

पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों के खिलाफ सीएम ममता का ई-स्कूटर रैली

बता दें कि इससे पहले देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों के खिलाफ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अब सड़क पर उतर आई हैं। सीएम ममता ने आज कोलकाता में ई-स्कूटर पर सवार होकर अपना विरोध जताया है। ममता बनर्जी ने स्कूटर पर बैठकर गले में महंगाई का पोस्टर लटकाया है। ममता बनर्जी की ये रैली हरीश चटर्जी स्ट्रीट से लेकर राज्य सचिवालय नबन्ना तक निकाली जा रही है।

तेल की कीमतें बढने का सीधा मतलब है महंगाई

बता दें कि देशभर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। कई राज्यों में पेट्रोल की कीमत 100 के या तो पास या फिर पार जा चुकी है। तेल के इस खेल में पिस रही है आम जनता। तेल की कीमतें बढने का सीधा मतलब है महंगाई का बढना। विरोधी पार्टियां केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना कर रही हैं तो प्रधानमंत्री का कहना है कि हमें तेल के आयात पर निर्भरता कम करनी होगी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button