छत्तीसगढ़बड़ी खबरराजनीतिराज्य

सत्ता की भूखी कांग्रेस देश को अशांत करने पर तुली है-बृजमोहन

नागरिकता संसोधन कानून पर बृजमोहन ने बलौदाबाजार में ली पत्रकार वार्ता

बृजमोहन ने कहा यहा के हिंदू- मुसलमान मां भारती की संताने हैं, इस देश में सभी का बराबर अधिकार है और रहेगा।

रायपुर: बलौदा बाजार में आयोजित पत्रकार वार्ता में वरिष्ठ भाजपा नेता एवं विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने देश में लागू नागरिक संशोधन एक्ट को लेकर अपनी बात रखी।

बृजमोहन ने कहा कि नागरिक संशोधन एक्ट (CAA) पाकिस्तान बांग्लादेश और अफगानिस्तान से धार्मिक उत्पीड़न के बाद भारत आए वहा के अल्पसंख्यक हिन्दू,बौद्ध, पारसी,जैन शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए बनाया गया है। यह कानून किसी की नागरिकता छीनने के लिए नहीं है।

उन्होंने कहा कि सत्ता के भूखे कांग्रेस व विपक्ष के लोग अपनी राजनीतिक रोटी सेकने के लिए मुसलमानों के कंधों का उपयोग कर रहे हैं। वे झूठ फैला रहे हैं कि यह कानून मुसलमानों के हक छीन रहा है, जो कि सरासर गलत और अफवाह है। ऐसा करके विपक्षी शांत भारत देश को अशांत करने पर तुले हुए हैं। ऐसे में देश की जनता को एकजुटता का परिचय देते हुए नागरिक संशोधन कानून का समर्थन कर एकजुटता का परिचय देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू जी ने पाकिस्तान के हिंदू अल्पसंख्यको की चिंता करते हुए उनके सुरक्षा की बात कही थी। पाकिस्तान की राष्ट्रपति लियाकत अली और हमारे प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के बीच इस संबंध में बाकायदा समझौता भी हुआ था कि दोनों तरफ के अल्पसंख्यकों भारत में मुसलमान और पाकिस्तान में हिंदुओं की सुरक्षा, उनकी संपत्ति की रक्षा, व देश में बराबरी का अधिकार मिले।

परंतु पाकिस्तान में लगातार वहां के हिंदू अल्पसंख्यकों के साथ अत्याचार वह अन्याय होता रहा यही वजह थी कि 23% की वहां की हिंदू आबादी आज ढाई प्रतिशत में तब्दील हो गई है। ऐसे में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और राष्ट्र के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की सोच के मुताबिक आज पीड़ित शोषित अल्पसंख्यक हिंदुओं को भारत में नागरिकता प्रदान करने का कार्य किया जाना सही कदम है।

जो शरणार्थी दिसंबर 2014 तक भारत आ चुके हैं उन्हें सरकार इस कानून के तहत नागरिकता प्रदान करेगी। ने कहा कि मुसलमानों को इस कानून से अलग से रखा गया है क्योंकि उन देशो में वे बहुसंख्यक है।

ऐसे में उनके साथ किसी तरह का धार्मिक उत्पीड़न संभव नही है। हालांकि भारत के अन्य कानून के तहत वहा के अन्य नागरिकों को भी भारत की नागरिकता दी जा सकती है। हमने पाकिस्तानी गायक अदनान सामी, बांग्लादेश की लेखिका तसलीमा नसरीन को नागरिकता उसी के तहत दी है।

बृजमोहन ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वह घुसपैठियों को भारत में नागरिकता दिलाने का प्रयास कर रही है ताकि वह अपना वोट बैंक मजबूत कर सके। शरणार्थियों को नागरिकता देने का जो कार्य आज केंद्र की मोदी सरकार कर रही है उसके लिए 7 जुलाई 1947 को नेहरु जी ने शुरुआत की थी।

1971 युद्ध के दौरान बांग्लादेश के अल्पसंख्यकों हिंदुओं को स्वर्गीय इंदिरा गांधी ने भारत में शरण दी थी। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने भी इस संबंध में अपनी सहमति जताई थी। परंतु आज स्वार्थ की राजनीति के चलते कांग्रेस पार्टी व कुछ विरोधी दल देश को बांटने में लगे हैं वे भारत के अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के मन में भय पैदा करके राजनीतिक रोटियां सेक रहे हैं।

बृजमोहन ने कहा कि भाजपा हस्ताक्षर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार भारत की एकता अखंडता और संप्रभुता को बनाए रखने के लिए संकल्पित है।

हिंदू और मुसलमान सारे ही मां भारती की संताने हैं। उनकी सुरक्षा ,उनके सम्मान और स्वाभिमान की रक्षा हम सभी का कर्तव्य है।
उन्होंने कहा कि या नागरिक संशोधन कानून संविधान के अनुरूप ही बना है। देश की सवा सौ करोड़ जनता के प्रतिनिधियों ने पूर्ण बहुमत से लोकसभा और राज्यसभा मे इसे पास किया है। बृजमोहन ने कहा कि लोकतंत्र के मंदिर से निकले कानून का अपमान करके कांग्रेस पार्टी का विरोधी संविधान निर्माताओं का अपमान कर रहे हैं।

इस पत्रकार वार्ता में रायपुर सांसद सुनील सोनी, जांजगीर-चांपा सांसद गुहाराम अजगले, विधायक शिवरतन शर्मा, गौरीशंकर अग्रवाल आदि उपस्थित थे।

Tags
Back to top button