भारत पहुंची थाईलैंड के फुकेट शहर में सड़क हादसे में जान गंवाने वाली प्रज्ञा का शव

विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने सौंपा परिवार को शव

छतरपुरःथाईलैंड के फुकेट शहर में एक सड़क हादसे में हुए प्रज्ञा की मौत के बाद उनके परिवार द्वारा काफी दिक्कतों का सामना करने के बाद अखिकार प्रज्ञा का शव भारत लाया गया.

विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने प्रज्ञा के परिवार को उनका शव सौंप दिया है, जिसके बाद प्रज्ञा के परिजन शव लेकर दिल्ली से छतरपुर के लिए रवाना हो गए. प्रज्ञा का शव आज दोपहर तक पहुंचेगा.

सरकार ने भी प्रज्ञा का शव वापस देश लाने में उनके परिवार की काफी मदद की और भारतीय दूतावास में लगभग ढाई लाख रुपए जमा कराए, ताकि शव को वापस लाया जा सके. दरअसल, प्रज्ञा के परिजनों में से किसी के पास पासपोर्ट नहीं था. ऐसे में केंद्र औ मध्य प्रदेश सरकार की मदद से प्रज्ञा का शव भारत लाया जा सका है.

प्रज्ञा की मौत के बाद परिवार ने छतरपुर से कांग्रेस विधायक आलोक चतु्र्वेदी से मदद मांगी. जिसके बाद विधायक आलोक चतुर्वेदी ने ट्वीट करके पीएमओ और विदेश मंत्रालय से मदद मांगी. जिसके बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रज्ञा के परिजनों को उनका शव वापस लाने का आश्वासन दिया.

छतरपुर के सीताराम कॉलोनी के शिव कुमार पालीवाल की बेटी प्रज्ञा बेंगलुरू की अथेंचर कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थी. वह थाईलैंड की यूनेट बिजनेस कंपनी से भी संबद्ध थी. प्रज्ञा यूनेट की कॉन्फ्रेंस के लिए ही थाईलैंड में थी.

ऐसे में बैंकॉक घूमने की प्लानिंग से प्रज्ञा निकली थी, जहां एक सड़क दुर्घटना में उसकी मौत हो गई. 9 अक्टूबर को बेंगलुरू में प्रज्ञा की रूम मेट मरियम ने छतरपुर सूचना दी कि प्रज्ञा का बैंकाक के फूकेट शहर में सड़क हादसे में निधन हो गया है.

Back to top button