डॉ. भीमराव अंबेडकर को बौद्ध धर्म की दीक्षा देने वाले प्रज्ञानंद का निधन

<h2>डॉ. भीमराव अंबेडकर को बौद्ध धर्म की दीक्षा देने वाले प्रज्ञानंद का निधन</h2>

<p>बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर को बौद्ध धर्म की दीक्षा देने वाले बौद्ध भिक्षु प्रज्ञानंद का गुरुवार को लंबी बीमारी के बाद लखनऊ में निधन हो गया. वह 90 वर्ष के थे. रविवार को उनको गंभीर हालत में लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के भर्ती कराया गया था.</p>

<p>उनके निधन की सूचना मिलने के बाद बौद्ध धर्म के अनुयायियों में शोक की लहर दौड़ पड़ी. केजीएमयू के सीएमएस डॉ. एसएन शंखवार ने बताया कि उन्हें सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ होने पर बीते दिनों ट्रामा सेंटर में एडमिट कराया गया था, वहां से बाद में उन्हें केजीएमयू के गांधीवार्ड में शिफ्ट किया गया था.</p>

<p>दलित आइकॉन डॉ. बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर ने 14 अक्टूबर 1956 को बौध धर्म अपनाया था और इस ऐतिहासिक क्षण के इकलौते गवाह थे 90 साल के बौध भिक्षु भादंता प्रज्ञानंद. श्रीलंका के रहने वाले प्रज्ञानंद लखनऊ के रिसालदार पार्क स्थित बुद्ध विहार के सीनियर मोस्ट मॉन्क थे.</>

Back to top button