प्राकृतिक आपदा से सावधानी में ही समझदारी, जानें आकाशीय बिजली से बचने के उपाय

राष्ट्रीय आपदा प्रधीकरण प्रबंधन के सदस्य कृष्णा एस. वत्स बताते हैं कि जैसे ही मानसून का मौसम शुरू होता है

नई दिल्ली: देश में मॉनसून की दस्तक के साथ ही कई राज्यों में लोग आकाशीय बिजली का शिकार हुए हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश, राजस्थान, झारखंड और मध्य प्रदेश में कई लोग आकाशीय बिजली के सम्पर्क में आने से मारे गए। आकाशीय बिजली का कहर अधिकतर खेतों में काम करने वाले किसानों या बाहर घूमने गए लोगों पर पड़ रहा है।

वाकयी बाढ़ और बिजली गिरने जैसी आपदाओं की वजह से हर साल जान-माल का नुकसान होता है। ऐसे में इस खतरे को हम कैसे कम कर सकते हैं, इसके बारे में जानना बेहद जरूरी है। आकाशीय बिजली के समय बचाव के लिए लोगों को क्या कदम उठाने चाहिए बता रहे हैं राष्ट्रीय आपदा प्रधीकरण प्रबंधन के सदस्य कृष्णा एस. वत्स…

आकाशीय बिजली के समय बचाव के लिए सबसे महत्वपूर्ण क्या है?

राष्ट्रीय आपदा प्रधीकरण प्रबंधन के सदस्य कृष्णा एस. वत्स बताते हैं कि जैसे ही मानसून का मौसम शुरू होता है, यह खतरा बढ़ जाता है। इस बार जून में मानसून शुरू हुआ था लेकिन थोड़ा कमजोर पड़ गया, वहीं अब जुलाई में फिर से मानसून की एक्टिविटी बढ़ गई है। मानसून शुरू होने के समय और मानसून के अंत होने के वक्त आकाशीय बिजली गिरने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में हमें सूचनाओं पर ध्यान देना चाहिए। लोगों को ऐसी स्थिति में घरों के भीतर ही रहना चाहिए और जब आकाश में बिजली कड़कड़ाती हो तो बहुत आवश्यक है कि लोग सुरक्षित जगहों पर रहें। बारिश के मौसम में लोग खुले आकाश के नीचे बिलकुल न रहें और नदी और तालाबों के नजदीक भी न जाएं।

अगर आप घर में हैं तो क्या कदम उठाएं की आकाशीय बिजली गिरने से नुकसान कम हो?

कृष्णा एस. वत्स बताते हैं, यदि लोग आकाशीय बिजली गिरने के वक्त घर में रहते हैं तो कोई ज्यादा समस्या नहीं आती। हालांकि ऐसे में एक बात का विशेष ध्यान रखना होगा कि आप अपने घर में अर्थिंग की समस्या को ठीक रखें और बिजली की तारों के समीप न जाएं। ऐसे मौसम में ध्यान रखें कि कोई भी ऐसा कॉन्टेक्ट न हो, जिसके कारण इलेक्ट्रोक्यूशन की संभावना बढ़े। बारिश के मौसम में यदि घर के खिड़की दरवाजे ठीक से बंद करके रहे और उपरोक्त बातों को ध्यान में रखें तो खतरे की चिंता नहीं है। इसके साथ ही पूर्व सूचना पर समय-समय ध्यान देते रहना होगा। जहां कहां भी इस प्रकार की स्थिति वहां लोगों को एहतियात बरतने की खास जरूरत है।

अगर घर के बाहर हों या वाहन में हों तो आकाशीय बिजली से बचाव कैसे हो ?

बरसात के मौसम में इस बात का खास ध्यान रखें कि आप किसी पेड़ के पास न रहें क्योंकि ऐसे मौसम में वहां बिजली गिरने की संभावना काफी बढ़ जाती है। यदि आसपास कोई वाहन है तो आप उसमें शरण ले सकते हैं। दूसरा उपाय यह है कि आप कोई ऐसी जगह तलाश कर बैठ जाएं जहां फिजिकल प्रेसेंस कम से कम हो। ऐसे में डायरेक्ट बिजली गिरने की संभावना काफी कम हो जाती है।

प्राकृतिक आपदा के लिए पूर्व चेतावनी तंत्र कैसे काम करता है?

भारतीय मौसम विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. आर. के. जीनामणी बताते हैं कि बारिश के मौसम से लगभग चार-पांच घंटे पहले ही ऐसी किसी भी स्थिति की पूर्व सूचना जारी कर दी जाती है और लोगों को बचाव के लिए बता दिया जाता है। मौसम विभाग यह पूर्व सूचना जारी कर देता है कि किस एरिया में बिजली की गरज के साथ बारिश की संभावना है। ऐसे में लोगों को एहतियात बरतने की खास जरूरत है। ऐसी पूर्व सूचनाओं के बारे में हम रडार या सेटेलाइट के जरिए आने वाली बारिश के पूर्व की स्थिति का अनुमान लगा लेते हैं। यदि व्यक्ति घर से बाहर निकल रहा है तो वह खुद भी परख सकता है कि बाहर कैसे बादल हैं। यदि काले बादल हो रहे हैं और अंधेरा छा जाने जैसे स्थिति है तो व्यक्ति को बाहर नहीं निकलना चाहिए क्योंकि ऐसी स्थिति में बिजली गिरने की संभावना रहती है।

आकाशीय बिजली से बचाव के लिए क्या करें :

– बारिश के समय खेतों, खुले मैदानों, पेड़ों या किसी ऊंचे स्तंभ के पास न जाएं क्योंकि इनके पास बिजली गिरने की सबसे ज्यादा संभावना होती है।
– यदि आप घर के अंदर हैं और बाहर बिजली कड़क रही है तो घर में मौजूद बिजली संचालित उपकरणों से आपको दूर रहना चाहिए।
– बिजली कड़कड़ाने के दौरान टेलीफोन, मोबाइल, इंटरनेट जैसी सेवाओं के इस्तेमाल से बचें।
– खिड़की दरवाजों को अच्छे से बंद कर लें।
– अपने आस पास ऐसी कोई चीज या वस्तु न रखें, जो बिजली का सुचालक हो क्योंकि बिजली का सुचालक वस्तु आकाशीय बिजली को अपनी ओर खींचता है।
– खुली छत पर जाने से बचें।
– धातु के पाइप, नल, फव्वारे इत्यादि से दू रहें।
– बिजली कड़कड़ाने के समय किसी भी धातु से बनी वस्तु के आसपास खड़े न हो, तारों के आसपास न रहें।
– खराब मौसम में जमीन के सीधा संपर्क से बचें।
– खुले में हैं तो जमीन पर सिमट कर बैठें।
– अगर वाहन में हैं तो वहीं रुकें।
– पानी, झील, नावों से बाहर निकल जाएं।
– बिजली के तारों- खम्भों, गिरे पेड़ों से सतर्क रहें।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button