प्रेग्नेंसी में स्ट्रेस फ्री रहना है जरुरी, रोजाना टहले 30 मिनट

प्रेग्नेंसी पीरियड में स्ट्रैस फ्री रहने के लिए आपको रोजाना सैर करनी चाहिए।

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस, हाई बीपी, कब्ज, खून की कमी, चक्कर आना और नींद ना आना जैसी कई हेल्थ प्रॉब्लम्स का सामना करना पड़ता है।

वहीं कई बार महिलाएं गर्भावस्था में तनाव का शिकार भी हो जाती है, जो बच्चे के लिए हानिकारक है।

ऐसे में बच्चे को हैल्दी रखने और प्रेग्नेंसी पीरियड में स्ट्रैस फ्री रहने के लिए आपको रोजाना सैर करनी चाहिए।

प्रेग्नेंसी के दौरान टहलने से शरीर में ऊर्जा बना रहता है और साथ ही एक्टिव भी रखता है।

प्रेग्नेंसी में क्यों जरूरी है टहलना?

गर्भावस्था में हेवी-वेट एक्सरसाइज करने से बचना चाहिए इसलिए इस दौरान टहलना सबसे बेहतर ऑप्शन है। डॉक्टर भी प्रेग्नेंसी में टहलने की सलाह देते हैं।

क्योंकि इससे तनाव कम होता है और नॉर्मल डिलीवरी के चांसेस बढ़ जाते हैं। इतना ही नहीं, रोजाना टहलने से डिलीवरी के बाद रिकवरी भी बहुत जल्दी होती है।

टहलने का सही समय

यदि आप कभी-कभार ही टहलने जाती हैं तो इससे आपको नियमित व्यायाम के फायदे नहीं मिलेंगे। ऐसे में जरूरी है कि आप रोजाना कम से कम 30 मिनट जरूर टहलें।

गर्भवती महिला को रोजाना सुबह आधा घंटा जरुर टहलना चाहिए क्योंकि सुबह की ताजी हवा मां और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है।

साथ ही इससे दोनों को ही भरपूर ऑक्सीजन भी मिलती है। इसके अलावा प्रेग्नेंसी के दौरान भोजन करने के बाद कम से कम 15 से 20 मिनट जरुर टहलें। इससे खाना आसानी से पच जाता है।

टहलने के फायदे

हेल्दी बेबी

अगर मां का शरीर स्वस्थ रहेगा तो बच्चा भी हेल्दी रहेगा। इसके लिए जरूरी है कि आप रोज जरूर टहलें।
टहलने से शरीर में ब्लड का स्त्राव सही रहता है, जो बच्चे के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। साथ इससे वजन भी सामान्य रहता है।

स्ट्रेस बूस्टर

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाएं अक्सर तनाव का शिकार हो जाती है, जिससे गर्भ में पल रहे बच्चे पर भी असर पड़ता है।

टहलने से एंडोर्फिन नामक हार्मोन रिलीज होता है, जो तनाव को दूर करने के साथ-साथ मूड़ स्विंग की समस्या को भी दूर रखता है।

कब्ज की शिकायत

दवाओं का सेवन करने की वजह से प्रेग्नेंसी में कब्ज की शिकायत होना आम समस्या है। मगर रोजाना 15 से 20 मिनट की वॉक भी आपको इस समस्या से दूर रखेगी।

शरीर में आती है स्फूर्ति

इस दौरान टहलने से मां के साथ-साथ शिशु की भी कसरत हो जाती है। साथ ही इससे मूड़ और शरीर तरोताजा बना रहता है और महिलाें हर काम स्फूर्ति से करती हैं।

अच्छी नींद
नींद ना आने की समस्या प्रेग्नेंसी में आम देखने को मिलती है। मगर रोजाना कुछ देर टहलने से सोते समय नींद अच्छी आती है।

ब्लड प्रेशर को करे कंट्रोल

सामान्य तौर पर प्रेग्नेंसी में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है, जो मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक है। ऐसे में आप रोजाना कुछ देर जरूर टहलें क्योंकि इससे ब्लड प्रेशर नॉर्मल रहता है।

डायबिटीज का खतरा होता है कम

गर्भावस्था में हाई बल्ड प्रेशर की समस्या होने के कारण टाइप 2 डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है, जिसके कारण समय से पहले लेबर का खतरा रहता है|

बच्चा भी मोटापे का शिकार हो सकता है। मगर जो महिला नियमित रूप से एक्सरसाइज या टहलती हैं उनमें इसका खतरा कम होता है।

Back to top button