प्रैग्नेंसी किट्स यूज करने से पहले बरतनी चाहिए ये सावधानियां

कई बार गर्भधारण करने के बाद भी महिलाओं को पता नहीं चल पाता कि वह प्रेग्नेंट है

शादी के बाद ज्यादातर महिलाएं अपने परिवार को आगे बढ़ाने के बारे में प्लानिंग करनी शुरू कर देती है लेकिन कई बार गर्भधारण करने के बाद भी महिलाओं को पता नहीं चल पाता कि वह प्रेग्नेंट है या नहीं। एेेसे में आप बाजार में मिलने वाली प्रैग्नेंसी किट्स यूज कर सकते हैं।

इनसे आप घर बैठे ही पता कर सकते हैं। मगर आपको इस्तेमाल की पूरी जानकारी होना बहुत जरूरी है। आज हम आपको प्रैग्नेंसी किट्स इस्तेमाल करना का तरीका और इनके प्रति क्या सावधानियां बरतनी चाहिए उसके बारे में बताएंगे।

क्या है प्रैंग्नेंसी किट

पीरीयड मिस होने पर एक यूरिन टैस्ट होता है जिससे औरत के गर्भवती होने का पता चलता है। इसके लिए एक कार्ड का इस्तेेमाल किया जाता है। जिसे डिटेक्शन प्रैगनेंसी किट कहा जाता है। आप बाजार से कोई भी प्रैंग्नेंसी किट खरीद सकती हैं। इसे खरीदते समय एक्सपायरी डेट जरुर देख लेेें और बढ़िया क्वालिटी की ही लें।

कैसे करें इस्तेमाल

इसका इस्तेमाल पीरीयड मिस होने के 10 दिन के बाद करें। सुबह उठने के बाद प्रैग्नेंसी किट का उपयोग करें। इस किट के द्वारा यूरीन में ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोप्रोटीन(एचसीजी)हार्मोन का पता लग जाता है। अगर एचसीजी पॉजीटिव है तो मतलब आप प्रैग्नेंट हैं।

क्या होता है एचसीजी हॉर्मोन

एचसीजी क्रिया अक्सर पीरीयड आने के एक या दो हफ्ते के बाद पति पत्नि के आपसी संबध बनाने से होती है। एचसीजी हॉर्मोन शरीर में तभी पाए जाते है जब आप प्रैग्नेंट हो। भ्रूण के बढ़ने को साथ इनकी मात्रा भी बढती रहती है।

सावधानियां

1. मां बनने की खुशी में जल्दी जल्दी की गई जांच गलत भी हो सकती है। इसलिए पहले खुद को तैयार कर लें।

2. जांच से पहले कुछ खाए पीए न एचसीजी के स्तर पर असर पङ सकता है।

3. जांच के लिए सुबह के यूरिन के नतीजें ज्यादातर जल्दी और सही होते है।

4. डॉक्टर की सलाह जरुर लें।<>

Back to top button