प्रैग्नेंसी में रखेंगी इन बातों का ध्यान तो बच्चा नहीं होगा विकलांग

सभी महिलाओं के लिए प्रैग्नेंसी पीरियड काफी सुखद होता है। हर मां यहीं चाहती है कि उसके गर्भ में पल रहा बच्चा बिल्कुल स्वस्थ हो। बच्चे शरीर भी बिल्कुल सही हो। इसलिए प्रैग्नेंसी में काफी देखभाल की जरूरत होती है।

सभी महिलाओं के लिए प्रैग्नेंसी पीरियड काफी सुखद होता है। हर मां यहीं चाहती है कि उसके गर्भ में पल रहा बच्चा बिल्कुल स्वस्थ हो। बच्चे शरीर भी बिल्कुल सही हो। इसलिए प्रैग्नेंसी में काफी देखभाल की जरूरत होती है।

डॉक्टर्स का कहना भी यहीं कि प्रैग्नेंसी के दौरान मां द्वारा कि गई जरा सी गलती बच्चों को कई तरह की परेशानियों में डाल सकती है। यहां तक की बच्चा विकलांग भी हो सकता है। बच्चे में आने वाली इस कमी का कारण कैल्श‍ियम और विटामिन डी की कमी है। अगर आप भी अपना बच्चा स्वस्थ और सुंदर चाहती है तो इन बातों का खास ध्यान रखें।

– 3 महीने करें ये काम

प्रैग्नेंसी के 3 महीने पहले ही जरूरी टेस्ट जैसे थायरॉयड, सिस्ट अन्य आदि टेस्ट करवा लेने चाहिए। इसके अलावा 3 महीने पहले ही फॉल‍िक एसिड से भरपूर चीजों को सेवन करना शुरू कर देना चाहिए। इससे मां और बच्चे में खून की कमी नहीं होगी।

– वायरल इंफैक्शन

प्रैग्नेंसी के दौरान मां को ऐसे लोगों से दूर रहना चाहिए, जिन्हें किसी प्रकार का वायरल इंफेक्शन है। भीड़-भाड़ वाली जगह पर जाने से परहेज करना चाहिए क्योंकि इससे बच्चे की बोलने और सुनने की क्षमता कम होती है।

– बाहर का खाना

माना कि प्रैग्नेंसी के दौरान शरीर में बहुत से हार्मोनल परिवर्तन आते है, जिससे प्रैग्नेंट महिला का मन खई चीजें जैसे खट्टा, चटपटा खाने को करने लगता है। अगर आप अपना बच्चा स्वस्थ और तंदरूस्त चाहती है तो बाहर की चीजे जैसे पिज्जा, बर्गर, रोड साइड चाट-पकौड़े आदि खाना बंद कर दें।

– कोल्ड ड्रिंक्स

बाहर से खरीदा जूस तो कभी भी न पिएं। अगर आपका जूस पीने का मान है तो घरक पर ताजा जूस बनाकर पिएं। दुकानों से मिलने वाले जूस बैक्टीरिया इंफेक्टेड होते है। वहीमं कोल्ड ड्रिंक्स में प्रिजर्वेटिव्स का इस्तेमाल काफी मात्रा में होता है, जिसका असर बच्चे की सेहत पर पड़ती है।

advt
Back to top button