राजधानी में पीलिया से गर्भवती महिला की मौत

मोवा नहरपारा में मचा मौत का तांडव, संक्रमण की चपेट में हैं 100 से मरीज

राजधानी में पीलिया से गर्भवती महिला की मौत

मोवा नहरपारा में मचा मौत का तांडव, संक्रमण की चपेट में हैं 100 से मरीज

अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है इलाज

रायपुर। जानलेवा पीलिया की चपेट में आने से मोवा में एक गर्भवती महिला की मौत ने नगर-निगम की पानी सप्लाई की पोल खोल दी है। मृतक सुशीला साहू (30 वर्ष) मोवा नहर पारा की रहने वाली थी जो पिछले कुछ दिनों से पीलिया से पीड़ित थी।

सुशीला को शनिवार देर रात इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसकी मौत हो गई। बता दें कि मोवा के नहर पारा में 50 से ज्यादा लोग पीलिया से पीड़ित हैं। मार्च के महीने में दूषित पानी पीने से गर्भवती की मौत से इलाके के लोगों की नींद उड़ गई है।

क्लिपर28 की पड़ताल के मुबाबिक शहर के अस्पतालों में जांच शिविर में सौ के करीब पीलिया के मरीज मिले थे। जिनका इलाज अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है।

4 दिनों में मिले पीलिया के 47 संदिग्ध मरीज

जिला महामारी नियंत्रण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी डॉ. आरके चंद्रवंशी ने की माने तो राजधानी के जोन क्रमांक- 2 के अंतर्गत आने वाले वार्ड क्रमांक- 27 के नहरपारा और पांडेपारा में 4 दिनों में पीलिया के 47 संदिग्ध मरीज स्वास्थ्य विभाग द्वारा गठित टीम को मिले हैं।

वहीं 54 लोगों का ब्लड सैंपल लेकर जांच के लिए मेडिकल कॉलेज रायपुर के माइक्रो बॉयोलॉजी विभाग भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही प्रभावित मरीजों की पुख्ता जानकारी सामने आ सकेगी।

पॉश कॉलोनियों में भी खतरा

झुग्गी बस्ती के आलाव पॉश कॉलोनियों में भी पीलिया का खतरा मंडराने लगा है। नहरपारा और पांडेपारा के बाद अब वार्ड 28 अवंति विहार कॉलोनी के महर्षि वाल्मिकी वार्ड के रहवासियों ने फूटे पाइपलाइन से गंदे और बदबूदार पानी सप्लाई किए जाने की शिकायत की है, लेकिन नगरनिगम इस दिशा में मूकदर्शक बना हुआ है।

इससे स्थानीय लोगों ने पीलिया और हैजा फैलने का खतरा बताया है। बता दें कि हाल ही में संचालक स्वास्थ्य सेवाएं ने रायपुर जिले के महामारी टीम की आपात बैठक में नई टीम का गठन कर वार्डों में विजिट करने के निर्देश जिला अस्पताल के सिविल सर्जन, सीएमएचओ व आईडीएसपी जिला नोडल अधिकारी को दिए हैं।

इन इलाकों में पीलिया की दस्तक

जिला अस्पताल, अंबेडकर अस्पताल सहित जिले के कई निजी अस्पतालों से सीएमएचओ को पीलिया के मरीजों की सूचना दी जा रही है।

राजधानी के नहर पारा, पांडे पारा, महर्षि वाल्मिकी वार्ड, अनुराग नगर, दुर्गा नगर, लोधीपारा बस्ती, नया जिला अस्पताल पंडरी के आसपास की बस्ती सहित बैजनाथपारा, पुलिस लाइन स्थित जिला अस्पताल के सामने वाली बस्ती, संतोषी नगर और नेहरू नगर से पीलिया के मरीज रोज सामने आ रहे हैं।

सभी वार्डों में है समस्या

70 में से एक वार्ड भी ऐसा नहीं है जो जलसंकट पूरी तरह मुक्त हो। बता दें कि महापौर से लेकर नेताप्रतिपक्ष, जल विभाग के अध्यक्ष से लेकर जोन अध्यक्षों तक के वार्ड में जनता पानी के लिए सुबह से रात तक तरस कर रही है, लेकिन नगर निगम के जल विभाग के जिम्मेदार अफसर आंख मूंदे बैठे हैं।

महापौर ने नहीं उठाया फोन

मोवा नहर पारा में गर्भवती महिला की मौत प्रदूषित पानी पीने के वजह से पीलिया से होने पर महापौर प्रमोद दुबे से उनका पक्ष जानने के लिए जब क्लिपर के प्रतिनिधि ने फोन किया तो उन्होंने कॉल रिसीव ही नहीं किया।

मैं अभी बाहर हूं, जानकारी नहीं है : विनोद देवांगन पीलिया से गर्भवती महिला की मौत पर जोन-2 कमिश्नर ने विनोद देवांगन बताया कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। वे शासकीय कार्य से बिलासपुर हाईकोर्ट आए हुए हैं। पूरे मामले की जानकारी ली जाएगी।

advt
Back to top button