बड़ी खबरराष्ट्रीय

देश में चार आयुर्वेदिक दवाओं पर ट्रायल शुरू करने की तैयारी चल रही

चार औषधियां अश्वगंधा, यष्टिमधु, पिप्पली, आयुष-64 पर उनका शोध

कोरोना महामारी के इलाज के लिए दुनिया भर में लगातार दवाईयां व वैक्सीन बनाने की कोशिश हो रही है। भारत में भी एलोपैथ के साथ ही आयुर्वेदिक दवाइयों से इसका इलाज करने की तैयारी हो रही है। इसके लिए देश में चार आयुर्वेदिक दवाओं पर ट्रायल शुरू करने की तैयारी चल रही है।

केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने ट्वीट कर बताया कि कोरोना वायरस के खिलाफ आयुष दवाओं को प्रमाणित करने पर आयुष मंत्रालय व सीएसआईआर साथ मिलकर काम कर रहे हैं। एक सप्ताह के भीतर इनका मरीजों पर परीक्षण शुरू हो जाएगा।

एड-ऑन-थेरेपी के रूप में ट्रायल

नाइक ने कहाकि इन दवाओं को एड-ऑन-थेरेपी (अन्य दवाओं के साथ) के रूप में आजमाया जाएगा। इनका इस्तेमाल कोविड-19 मरीजों पर एड-ऑन-थेरेपी और स्टेंडर्ड केयर के तौर पर किया जाएगा। नाइक ने भरोसा जताया कि देश की यह परम्परागत औषधीय प्रणाली इस महामारी से निकलने में रास्ता दिखाएगी।

इन चार दवाइयों पर किया अध्ययन

बतादें कि इससे पहले आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने कहा था कि स्वास्थ्य मंत्रालय,आयुष मंत्रालय और सीएसआईआर ने एक साथ मिलकर तीन तरह का अध्ययन किया है। इसके आधार पर चार आयुर्वेदिक दवाईयों का देश भर में ट्रायल किया जाएगा। उन्होंने कहाकि चार औषधियां अश्वगंधा, यष्टिमधु, पिप्पली, आयुष-64 पर उनका शोध है। इन्हीं दवाईयों के जरिए यह ट्रायल किया जाएगा।

Tags
Back to top button