छत्तीसगढ़ के ऐतिहासिक सिरपुर के लक्ष्मण मंदिर को गोद देने की तैयारी

केंद्र सरकार द्वारा महासमुंद जिले के सिरपुर में छठी शताब्दी में स्थापित किए गए लक्ष्मण मंदिर को भी इसी वर्ष किसी निजी कंपनी को गोद दे दिया जाएगा

रायपुर

केंद्र सरकार द्वारा महासमुंद जिले के सिरपुर में छठी शताब्दी में स्थापित किए गए लक्ष्मण मंदिर को भी इसी वर्ष किसी निजी कंपनी को गोद दे दिया जाएगा। केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति मंत्रालय ने पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के साथ मिलकर ऐतिहासिक धरोहरों को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए गोद देने की जो योजना शुरू की है, उसमें 2018 की सूची में सिरपुर को भी रखा है।

बता दें कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने सिरपुर को विश्व धरोहरों की सूची में शामिल करने के लिए दस्तावेज भी तैयार कर रखा है। लेकिन एक दशक बाद सिरपुर यूनेस्को की सूची में शामिल नहीं हो पाया है। गोद लेने वाली कंपनी को यह ठेका पांच वर्षों के लिए दिया जाएगा ।सिरपुर है बौद्ध धर्म का महत्वपूर्ण तीर्थ

विश्वपटल पर बौद्ध धर्म का महत्वपूर्ण तीर्थ कहे जाने वाले सिरपुर के लक्ष्मण मंदिर को गोद दिए जाने के लिए धरोहर मित्रों की तलाश शुरू कर दी गई है। सरकार ने सिरपुर को ग्रीन कोड वाली धरोहरों की सूची में रखा है। जो कंपनी सिरपुर को गोद लेगी, उसे ब्ल्यू और ऑरेंज कैटेगरी में रखे किसी एक धरोहर को भी गोद लेना होगा। सिरपुर को ग्वालियर के किले और पटना के कुम्राहार के साथ आठवें नंबर पर रखा गया है। सूत्रों कि माने तो सिरपुर के लिए अब तक किसी एजेंसी ने बोली नहीं लगाई है।

Back to top button