अंतर्राष्ट्रीय

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने H-1B सहित अन्य विदेशी वर्क-वीजा पर लगाईं रोक

भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच काफी लोकप्रिय H-1B

वॉशिंगटन:भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच काफी लोकप्रिय H-1B और अन्य विदेशी वर्क-वीजा पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस साल के अंत तक रोक लगाई है. अपने फैसले को सही करार देते हुए ट्रंप ने कहा कि इससे उन लाखों अमेरिकियों को मदद मिलेगी, जिन्हें COVID-19 प्रकोप के चलते अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है.

इस संबंध में राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, ‘हमें संयुक्त राज्य अमेरिका के श्रम बाजार पर विदेशी कामगारों के प्रभाव को ध्यान में रखना चाहिए, विशेष रूप से तब जब मौजूदा असाधारण परिस्थितियों के चलते बेरोजगारी दर बढ़ी है और श्रम की मांग में कमी आई है’.

उन्होंने आगे कहा कि अमेरिका में समग्र बेरोजगारी दर में फरवरी और मई के बीच चार गुना उछाल दर्ज किया गया है. हमारे लोगों को अर्थव्यवस्था के हर क्षेत्र में नौकरियों के लिए विदेशी नागरिकों से प्रतिस्पर्धा करनी पड़ती है.

इसमें कुछ ऐसे लोग भी शामिल हैं, जो अस्थायी काम के लिए अमेरिका आते हैं. ये लोग अपने पति-पत्नी या बच्चों को भी साथ लाते हैं, जो आगे चलकर अमेरिकियों के लिए प्रतिस्पर्धा निर्मित करते हैं.

ट्रंप के अनुसार, 2020 में फरवरी से अप्रैल के बीच ऐसे उद्योगों में 17 मिलियन से अधिक नौकरियां गई हैं, जहां नियोक्ता H-2B गैर-आप्रवासी वीजा से जुड़े कर्मचारियों को काम पर रखने में दिलचस्पी दिखाते हैं. इसी अवधि के दौरान, अमेरिका के 20 मिलियन से अधिक कर्मचारियों ने ऐसे प्रमुख उद्योगों में अपनी नौकरी गंवाई, जो मुख्यरूप से H-1B और L वीजा धारकों से अपने पद भरते हैं.

Tags
Back to top button