राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद करेंगे दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम मोटेरा का उदघाटन

महामहिम रामनाथ कोविंद बुधवार को दो दिवसीय यात्रा पर गुजरात पहुंच गए

नई दिल्ली:राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज बुधवार को अहमदाबाद में साबरमती के निकट बने दुनिया के सबसे बड़े स्टेडियम मोटेरा का उदघाटन करेंगे। इस मौके पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी उपस्थित रहेंगे। महामहिम रामनाथ कोविंद बुधवार को दो दिवसीय यात्रा पर गुजरात पहुंच गए हैं।

लाल और काली मिट्टी की 11 पिच मोटेरा को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की परिकल्पना के अनुरूप सजाया गया है, इसमें तीन कॉरपोरेट बॉक्स, अंतरराष्ट्रीय स्तर का स्विमिंग पूल, इनडोर अकादमी, खिलाड़ियों के विशेष ड्रेसिंग रूम, क्लब हाउस और फूड कोर्ट है। यह देश का पहला स्टेडियम हैं, जहां लाल और काली दोनों तरह ही पिच हैं। इसमें छह लाल और पांच काली मिट्टी से तैयार की गई हैं। जहां दोनों तरह की पिच पर एक साथ अभ्यास किया जा सकता है।

शानदार ड्रेनेज सिस्टम :

विशेष पानी की निकासी की सुविधा के कारण मूसलाधार बारिश की स्थिति में महज 30 मिनट में पिच को सुखाया जा सकता है। इस स्टेडियम की एक विशेषता 9 मीटर की ऊंचाई पर 360 डिग्री पोडियम कोनकार्स को देखने वालों के लिए सुलभ बनाती है। यानी दर्शकों को हर स्टैंड से एक समान दृश्यावलोकन होगा। इसके अलावा यहां के कारपोरट बॉक्स में एक साथ 25 लोग बैठ सकेंगे।

अत्याधुनिक जिम :

यहां खिलाड़ियों के लिए टीम के अनुसार बड़े ड्रेसिंग रुम और दो अलग अलग अत्याधुनिक जिम बनाए गए हैं। स्टेडियम में एक विशेष ऑटोग्राफ गैलरी भी बनाई गई है, जहां विश्वकप से लेकर अब तक हुए ऐतिहासिक मैच और आईपीएल मैच के खिलाड़ियों के हस्ताक्षर किए बैट का कलेक्शन रखा गया है। इसी तरह से एक हाल जिसे हाल ऑफ फेम का नाम दिया गया है उसमें विश्व के सभी क्रिकेटरों की तस्वीरों से सजाया गया है।

दो साल में तैयार भव्य स्टेडियम :

मोटरा स्टेडियम को 2016 में ध्वस्त करके फिर से नए सिरे से लगभग 800 करोड़ की लागत से बनाया गया है। गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के मातहत आने वाला स्टेडियम हाइटेक सुख-सुविधाओं से लैस है। केवल दो साल के रिकॉर्ड समय में बना स्टेडियम अंतरराष्ट्रीय पैमाने पर सभी मानकों में अव्वल है, इसमें आंतरिक वातानुकूलित सिस्टम से लेकर इसकी दर्शक क्षमता तक शामिल है। पहले इसकी क्षमता 54,000 दर्शकों की थी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button