पाकिस्‍तान में भारतीय अधिकारियों के साथ भेदभाव, बिजली, इंटरनेट सप्‍लाई रोकी

नई दिल्ली।

भारतीय राजनयिकों ने एक बार फिर पाकिस्तान द्वारा उत्पीड़न का दावा किया है। सूत्रों के अनुसार, पाकिस्तान में भारतीय अधिकारियों से दुर्व्यवहार की बात सामने आई है। पाकिस्तान में कई को गैस कनेक्शन नहीं दिए गए हैं। अचानक उनकी बिजली काट ली गई है।

इसके अलावा इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है। विदेश मंत्रालय ने कथित तौर पर अपने पाकिस्तानी समकक्ष के साथ इस मामले को उठाया है। सूत्रों ने यह भी दावा किया है कि भारतीय राजनयिकों के आने वाले मेहमानों को भी पाकिस्तान में कड़ी सुरक्षा का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच, एक भारतीय अधिकारी ने यह भी बताया कि एक घुसपैठिए ने 10 दिसंबर को उनके इस्लामाबाद के घर में घुसने की कोशिश की।

अप्रैल में भारत ने पाकिस्तान द्वारा अपने राजनयिकों को सिख श्रद्धालुओं से न मिलने देने पर कड़ा विरोध जताया था। दरअसल, पिछले दिनों पाकिस्तान ने तीर्थयात्रा पर आए सिख श्रद्धालुओं को वहां के प्रमुख गुरुद्वारा जाने और भारतीय राजनयिकों से मिलने से रोका था।

इस मामले को लेकर विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा था कि करीब 1800 सिख श्रद्धालुओं का एक समूह तीर्थाटन सुगमता संबंधी द्विपक्षीय संधि के तहत 12 अप्रैल को पाकिस्तान की यात्रा पर गया था।

अधिकारियों को इन गुरुद्वारों में भारतीय सिख तीर्थयात्रियों से मिलने की अनुमति नहीं थी। सूत्रों ने कहा कि भारतीय अधिकारियों को न केवल प्रतिबंधित किया गया, बल्कि पाकिस्तानी सुरक्षा अधिकारियों द्वारा अपमानित भी किया गया। बहुत बुरी और कठोर भाषा में बात की। अधिकारियों को अप्रैल और जून में सिख तीर्थयात्रियों तक पहुंचने से भी मना कर दिया गया था।

दोनों देशों ने मार्च में घोषणा की थी कि वे राजनयिकों के उपचार के आसपास के सभी मुद्दों को पारस्परिक रूप से हल करने के लिए सहमत हुए हैं। एक संयुक्त बयान में, दोनों पक्ष भारत और पाकिस्तान में राजनयिक/कांसुलर कर्मियों के उपचार के लिए 1992 कोड ऑफ कंडक्ट के अनुरूप, राजनयिकों और राजनयिक परिसरों के उपचार से संबंधित मामलों को हल करने के लिए सहमत हुए।

new jindal advt tree advt
Back to top button