अरुण जेटली बोले :PM ने कहा भ्रष्टाचार पर कोई समझौता नही

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन के बाद वित्तमंत्री अरुण जेटली ने जानकारी देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में इस बात पर जोर दिया कि लोकतंत्र को सिर्फ चुनावी दायरे में नहीं देखा जाना चाहिए. किसी भी सरकार के लिए जनभागीदारी बहुत महत्वपूर्ण है. ताकि आम लोगों का जीवनस्तर सुधारा जा सके. जब तक कार्यकर्ता सरकार की योजनाओं में हिस्सा नहीं लेंगे, हम सफलता को लेकर आश्वस्त नहीं हो सकते. स्वच्छता अभियान इसका एक उदाहरण है.

प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि पार्टी कार्यकर्ताओं को देश के हर गांवों में जाना चाहिए और सरकार की योजनाओं को लोगों के बीच पहुंचाना चाहिए. ताकि उन्हें इसका लाभ मिले.

वित्तमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में दो बार विपक्ष का जिक्र किया और कहा कि विपक्ष को समझ नहीं आ रहा कि अपनी भूमिका का निर्वाह कैसे करें. विपक्ष के लिए सत्ता सिर्फ उपभोग की वस्तु थी. बिना स्पष्ट कारणों के कड़े शब्दों का उपयोग कोई विकल्प नहीं हो सकता.

उन्होंने कहा कि कहा कि सरदार पटेल की जन्मदिवस शताब्दी के मौके पर रन फॉर यूनिटी का आयोजन किया जाएगा. प्रधानमंत्री आज शाम दीनदयाल शताब्दी के मौके पर गरीबों के लिए योजना की घोषणा करेंगे.

भ्रष्टाचार पर कोई समझौता नहीं

भ्रष्टाचार के संबंध में प्रधानमंत्री ने कहा कि इस पर समझौता नहीं किया जा सकता. कोई भी पकड़ा जाएगा, तो बचेगा नहीं. आतंकवाद, भष्ट्राचार और जनभागीदारी लोगों के लिए है और इसमें कार्यकर्ताओं को शामिल कर इसे सफल बनाया जाएगा.

‘सत्ता सुख के लिए नहीं, सेवा के लिए’

पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को सलाह देते हुए उन्होंने कहा कि बिना जन भागीदारी के कोई योजना सफल नहीं हो सकती. चुनाव तीन साल में होगा या 5 साल में, इसका इंतजार मत करिए. जनता के बीच रहिए. सत्ता सुख के लिए नहीं, बल्कि सेवा के लिए है.

केंद्र सरकार की योजनाओं को गिनाते हुए उन्होंने कहा कि उज्जवला योजना हो या मुद्रा योजना इनसे संतुष्टि मिलती है, क्योंकि इससे गरीबों का कल्याण हो रहा है.

कार्यकारिणी में बीजेपी के 13 मुख्यमंत्रियों, 6 उपमुख्यमंत्रियों, 232 राज्य मंत्री, 1515 विधायक और एमएलसी और संसद की दोनों सदनों के 334 सांसदों ने हिस्सा लिया.

advt
Back to top button