प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय सैनिकों के साथ राजौरी में मनाई दिवाली

पीएम मोदी ने सुबह देशवासियों को बधाई भी दी

श्रीनगर:जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार राजौरी आए हैं. इससे पहले दिवाली के अवसर पर पीएम मोदी ने सुबह देशवासियों को बधाई भी दी.

लगातार छठे साल दिवाली सैनिकों के साथ

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजौरी पहुँच कर LoC के पास भारतीय सैनिकों के साथ दिवाली सेलिब्रेट किया. इस तरह प्रधानमंत्री लगातार छठे साल दिवाली सैनिकों के साथ मनाई. इस मौके पर अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के बाद पाकिस्तान ने हमसे कश्मीर छीनने की कोशिश की, लेकिन हमारे सैनिकों ने उसके मंसूबों को नाकामयाब कर दिया.

प्रधानमंत्री ने साथ ही कहा कि पाकिस्तान ने कश्मीर के एक हिस्से पर अवैध रूप से कब्जा कर रखा है, जिसकी कसक मेरे अंदर है. पीएम मोदी ने फौजियों को मिठाई बांटी, उनसे हाथ मिलाया और उनका हालचाल जाना.

फौजियों में अलग तरह का उत्साह

पीएम मोदी को अपने बीच देखकर फौजियों में अलग तरह का उत्साह देखने को मिला. वे दिवाली जैसे त्योहार के मौके पर प्रधानमंत्री को अपने बीच पाकर काफी खुश दिख रहे थे. यहां पीएम मोदी ने शहीद स्मारक को सलाम किया.

साल 2018 में पीएम मोदी ने भारत चीन सीमा पर तैनात आईटीबीपी के जवानों के साथ दीवाली मनाई थी. इस दौरान पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा था, ‘दूर-दराज के इलाकों में बर्फीले पहाड़ों पर ड्यूटी करने की उनकी लगन राष्ट्र की ताकत को और मजबूत बनाती है.’

भारत चीन सीमा पर हर्षिल छावनी क्षेत्र में जवानों को शुभकामनाएं देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वे अपनी प्रतिबद्धता और अनुशासन के जरिये 125 करोड़ भारतीयों के सपने एवं भविष्य को सुरक्षित करते हैं और लोगों में सुरक्षा और निडरता का भाव पैदा करने में मदद करते हैं.

मोदी ने सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की मौजूदगी में सैनिकों से कहा था, ‘आप हमारी जमीन के केवल एक कोने की रक्षा नहीं कर रहे हैं. देश की सरहदों की सुरक्षा करके, आप 125 करोड़ भारतीयों के सपनों और जिंदगियों की सुरक्षा कर रहे हैं.’

पीएम मोदी ने 2017 में प्रधानमंत्री के रूप में अपनी चौथी दिवाली जम्मू कश्मीर के गुरेज में सैनिकों के साथ मनाई थी. इससे पहले वर्ष 2016 में पीएम मोदी हिमाचल प्रदेश गये थे. जहां उन्होंने आईटीबीपी पुलिस के जवानों के साथ एक सुरक्षा चौकी पर समय बिताया था. साल 2015 में वह दिवाली पर पंजाब सीमा पर गये थे.और साल 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने दिवाली सियाचिन में जवानों के साथ मनाई थी.

Back to top button