प्रधानमंत्री उज्जवला योजना ने पूर्णिमा पटेल का जीवन किया आसान : बच्चों के पढ़ाई में दे रही पूर्ण ध्यान

कोरिया : कामेश्वर पटेल की पत्नी पूर्णिमा पटेल की आंखों से भोजन बनाते समय अब आंसु नहीं निकलते। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना ने पूर्णिमा पटेल का जीवन आसान बना दिया है। निःशुल्क रसोई गैस मिलने से इन्हें लकड़ी और कंडे के धुएं से छुटकारा तो मिला ही है, साथ ही भोजन बनाने में लगने वाला समय को वह कक्षा 8वीं में अध्ययनरत पुत्र अविष कुमार एवं कक्षा 7वीं में अध्ययनरत पुत्री कुमारी साक्षी की पढ़ाई में दे रही है।

जिले के विकासखण्ड बैकुण्ठपुर के ग्राम पंचायत सरभोका के ग्राम बासनपारा की पूर्णिमा पटेल एक घरेलू महिला है। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना प्रारंभ होने से पहले उन्हें चूल्हे में खाना बनाना पड़ता था। लकड़ी और कंडे के धुएं से वह बेहाल हो जाती थी। जिला प्रशासन से प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत् गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार की महिलाओं को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन देने की योजना के बारे में जब उसे पता चला तो वह सरपंच के पास जाकर फार्म जमा करवा आई।

हितग्राहियों की सूची में उसका नाम था। इसलिए आवश्यक कार्यवाही पूरी होने के पश्चात् पटेल को निःशुल्क गैस प्रदान किया गया और उसके घर में जाकर गैस एजेंसी वाले बता आए कि गैस का उपयोग कैसे करना है। पढ़ी-लिखी पटेल ने तत्काल गैस का उपयोग भी प्रारंभ कर दी। उन्होने बताया कि वे चाहकर भी रसोई गैस नहीं खरीद पा रहे थे। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत मात्र 200 रूपये के पंजीयन शुल्क पर घरेलू रसोई गैस कनैक्शन मिलने से वे और परिवार के लोग काफी खुश है। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना उनके लिए सार्थक साबित हो रहा है।

new jindal advt tree advt
Back to top button