सकारात्मक वार्ता के बाद प्रधानमंत्री का चीन दौरा,कई मुद्दों पर होगी चर्चा

सुषमा स्वराज ने रविवार को अपने चीनी समकक्ष स्टेट काउंसलर वांग यी से की मुलाकात

चार दिवसीय यात्रा पर बीजिंग में सुषमा स्वराज ने रविवार को अपने चीनी समकक्ष स्टेट काउंसलर वांग यी से मुलाकात की और बहुपक्षीय मंचों पर सहयोग, आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन और अन्य वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा की और मिलजुलकर इनसे निपटने की बात कही। अपने चीनी समकक्ष वांग यी से इतनी सकारात्मक वार्ता हुई। जिसके बाद 27 अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी की चीन दौरे की घोषणा कर दी गई।

डोकाला विवाद और मसूद अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करने पर चीनी अड़ंगे की वजह से भारत-चीन रिश्तों पर जमी बर्फ अब पिघलने लगी है। शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन से पहले मंत्री स्तर की वार्ता के लिए बीजिंग गई विदेशमंत्री अपने चीनी समकक्ष वांग यी से इतनी सकारात्मक वार्ता हुई कि इसके तुरंत बाद 27 अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी की चीन दौरे की घोषणा कर दी गई।

वहीं संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में विदेशमंत्री ने कहा, हमारा मानना है कि हमारे बीच की साझा चीजें हमारे मतभेद पर भारी हैं। हमारे मतभेदों के परस्पर स्वीकार्य समाधान के लिए हमें एक दूसरे से मिलती जुलती चीजों पर ही आगे बढ़ना चाहिए। वांग यी ने भी इसपर सहमति जताई और पुष्टि की कि चीन इस वर्ष सतलुज और ब्रह्मपुत्र नदी से जुड़े आंकड़ों को भारत के साथ साझा करेगा।

जल से जुड़े आंकड़ों को करेंगा साझा
मुलाकात के दौरान सतलुज और ब्रह्मपुत्र नदी में जल से जुड़े आंकड़ों को साझा किया जाएंगा। इसके साथ कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए नाथूला दर्रे को खोलने पर बनी सहमति पर भी विशेष चर्चा की ।

आतंकी मसूद अजहर पर लग सकता है रोक

कुछ दिन पहले भारतीय सीमा पर बार-बार चीनी सेना की ओर से बार-बार घुसपैठ की जा रही थी। जिसको लेकर चर्चा होगी। इस मुलाकात में आतंकी मसूद अजहर पर रोक लग सकता है।

Back to top button