छत्तीसगढ़

आदिम जाति सेवा सहकारी समिति बलंगी में किया जा रहा है किसानों का शोषण!

आदिम जाति सेवा सहकारी समिति बलंगी में किया जा रहा है किसानों का शोषण, बोरे में किसानों को परेशान कर लिया जा रहा है 41 केजी 200 ग्राम प्रति बोरा का नाप

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा
संवाददाता : अखिलेश साहू

बलरामपुर/ छत्तीसगढ

आदिम जाति सेवा सहकारी समिति बलंगी मैं किया जा रहा है किसानों का शोषण बोरे में किसानों को परेशान कर लिया जा रहा है 41k.g 200g प्रति बोरा का नाप।

ज्ञात हो कि आदिम जाति सेवा सहकारी समिति बलंगी में किसानों को जबरन परेशान कर शासन के नाम तौल से अधिक मात्रा में धान खरीदी का मामला सामने आया है। जब मीडिया की टीम खरीदी केंद्र पहुंची उस दौरान मीडिया कर्मियों को खरीदी केंद्र में घुसते ही आनन-फानन में समिति प्रबंधक कुछ किसानों को तो कान भरने में सफल हुए कि यदि आप लोगों से पूछा जाए कि कितने की भर्ती ली जा रही है तो आप लोग 40 केजी 700 ग्राम बताएं।

यह भी पढ़ें :-दूरस्थ व वनांचलों में मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना बनी संजीवनी 

परंतु कुछ किसान जहां मीडिया कर्मी पहुंचे उन्होंने साफ साफ शब्दों में बता दिया कि हम से जब हमारा पहला बार टोकन काटा था उस वक्त 41 किलो 200 ग्राम का भर्ती लिया गया है। और आज भी उतना ही का तौल हमें देने को बोला गया है। परंतु आप लोगों के आने पर जितने कर्मचारी हैं। चारों तरफ दौड़ कर और किसानों के कान भरने में लग गए इस संदर्भ में जब हमने समित केंद्र से ही अनुविभागीय अधिकारी वाड्रफनगर को फोन लगाया और समिति प्रबंधक से बाद भी कराया परंतु समिति प्रबंध प्रबंधक सीधा सीधा झूठ बोल गए कि हम 40 केजी 700 ग्राम ही भर्ती ले रहे हैं।

अब देखने वाली बात यह होगी कि अधिकारी धान खरीदी केंद्र पहुंचकर और इस व्यवस्था को सुधारने में सफल हो पाते हैं या किसानों को इसी तरह से अव्यवस्था में धान बेचना पड़ेगा..

यहां तक कि किसानों को समिति के द्वारा लेवर नहीं दिया जा रहा है और किसानों से पूछने पर बताया कि हम लेबर खुद लेकर आते हैं जब इस संदर्भ में हमने नायब तहसीलदार से बात की तो उन्होंने जांच करऔर तत्काल कार्यवाही करने के साथ जिला में सूचित करने की बात कही।आदिम जाति सेवा सहकारी समिति बलंगी में किया जा रहा है किसानों का शोषण!

 

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button