काम के प्रति समर्पित थे पृथ्वीराज

मुंबई। अपनी कड़क आवाज रौबदार भाव भंगिमाओं और दमदार अभिनय के बल पर लगभग चार दशकों तक सिने प्रेमियों के दिलों पर राज करने वाले भारतीय सिनेमा के युग पुरूष पृथ्वीराज कपूर निजी काम के प्रति समर्पित और नरम दिल वाले इंसान थे। फिल्म इंडस्ट्री में पापा जी के नाम से मशहूर पृथ्वीराज अपने थियेटर के तीन घंटे के शो के समाप्त होने के पश्चात गेट पर एक झोली लेकर खड़े हो जाते थे ताकि शो देखकर बाहर निकलने वाले लोग झोली में कुछ पैसे डाल सके ।

इन पैसों के जरिये पृथ्वीराज कपूर ने एक वर्कर फंड बनाया था जिसके जरिये वह पृथ्वी थियेटर में काम कर रहे सहयोगियों को जरूरत के समय मदद किया करते थे। पृथ्वीराज कपूर अपने काम के प्रति बेहद समर्पित थे। एक बार तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने उन्हें विदेश मे जा रहे सांस्कृतिक प्रतिनिधिमंडल में शामिल करने की पेशकश की लेकिन पृथ्वीराज कपूर ने नेहरू जी से यह कह उनकी पेशकश नामंजूर कर दी कि वह थियेटर के काम को छोड़कर वह विदेश नहीं जा सकते ।

03 नवंबर 1906 को पश्चिमी पंजाब के लायलपुर अब पाकिस्तान में शहर में जन्में पृथ्वीराज कपूर ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लायलपुर और लाहौर में पूरी की। पृथ्वीराज कपूर के पिता दीवान बशेश्वरनाथ कपूर पुलिस उपनिरीक्षक थे बाद में उनके पिता का तबादला पेशावर में हो गया। पृथ्वीराज कपूर ने आगे की पढ़ाई पेशावर के एडवर्ड कॉलेज से की। उन्होंने कानून की पढाई बीच मे ही छोड दी क्योंकि उस समय तक उनका रूझान थियेटर की ओर हो गया था। महज 18 वर्ष की उम्र में ही उनका विवाह हो गया।

वर्ष 1928 में अपनी चाची से आर्थिक सहायता लेकर पृथ्वीराज कपूर अपने सपनों के शहर मुंबई पहुंचे। पृथ्वीराज कपूर ने अपने करियर की शुरूआत 1928 में मुंबई में इंपीरियल फिल्म कंपनी से जुडकर की। वर्ष 1930 में बी पी मिश्रा की फिल्म ..सिनेमा गर्ल.. में उन्होंने अभिनय किया। कुछ समय पश्चात एंडरसन की थियेटर कंपनी के नाटक शेक्सपियर में भी उन्होंने अभिनय किया लगभग दो वर्ष तक फिल्म इंडस्ट्री में संघर्ष करने के बाद पृथ्वीराज कपूर को वर्ष 1931 में प्रदर्शित पहली सवाक फिल्म आलमआरा में सहायक अभिनेता के रूप मे काम करने का मौका मिला।

वर्ष 1933 में पृथ्वीराज कपूर कोलकाता के मशहूर न्यू थियेटर के साथ जुडे़। वर्ष 1933 में प्रदर्शित फिल्म ..राजरानी.. और वर्ष 1934 में देवकी बोस की फिल्म ..सीता.. की कामयाबी के बाद बतौर अभिनेता पृथ्वीराज कपूर अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये। इसके बाद उन्होंने न्यू थियेटर की निर्मित कई फिल्मों में अभिनय किया। इन फिल्मों में मंजिल. प्रेसिडेंट जैसी फिल्में शामिल है।

new jindal advt tree advt
Back to top button