छत्तीसगढ़

प्रो. बी.पी. कश्यप के खिलाफ महिला कांग्रेस ने की राज्यपाल से कार्रवाई की मांग

रायपुर : महिला कांग्रेस की अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम के नेतृतव में प्रो. बी.पी. कश्यप के खिलाफ छात्राओं दुर्व्यवहार के मामले को लेकर राज्यपाल बलराम दास टंडन को ज्ञापन सौपा गया। ज्ञापन में कहा गया है कि रायपुर के शासकीय महिला महाविद्यालय में प्रो. बी.पी. कश्यप ने छात्राओं के साथ दुर्व्यवहार किया इसके बाद से छात्राएं आंदोलनरत है। एक दिन नाराज छात्राओं ने प्रो. के साथ धक्कामुक्की भी की क्योंकि उनकी शिकायतों के बाद भी सरकार उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही थी।
इस घटना और छात्र संगठनों के लगातार विरोध प्रदर्शन के बाद सरकार ने प्रो. के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई करने की बजाय उन्हें छत्तीसगढ़ महाविद्यालय में स्थानांतरित कर दिया। इस स्थानांतरण के बाद से छत्तीसगढ़ महाविद्यालय में भी विरोध प्रदर्शन हो रहा है। दुखद है कि छात्राओं के साथ यह प्रताड़ना उस समय से हो रही है जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बेटी बचाओं-बेटी पढ़ाओं को केन्द्र सरकार का केन्द्रीय नारा बना रखा है। प्रधानमंत्री कई योजनाओं के माध्यम से बेटियों को प्रोत्साहित करने की योजनाएं चला रहे हैं। दरअसल यह मामला सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार विशाखा कमेटी में जाना चाहिये था और इस मामले में छात्राओं से बातचीत के बाद सख्त कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिये थी।

प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम ने कहा है कि आप कुलाधिपति भी है इसलिए आपसे अपेक्षा है कि शासकीय महिला महाविद्यालय की घटना पर आप सरकार को अतिशीघ्र कड़ी कार्रवाई के लिए निर्देशित करेंगे, जिससे कि छात्राओं को आत्मविश्वास बढ़े और पालक अपनी बेटियों को महाविद्यालय भेजने से न कतराएं। ज्ञापन देने वालों में प्रमुख रूप से उषा रज्जन श्रीवास्तव, राधा राजपाल, वंदना राजपूत, आशा चैहान, प्रेमलता भोई, भोजकुमारी यदु, गंगा यादव, चंद्रवती साहू, सुधा सरोज, राहत परवीन, अपर्णा फ्रांसिस, रजिया बेगम, पिंकी बाघ, सकुन सोनकर उपस्थित थे।

Tags
Back to top button