सड़कों पर आवारा छोड़ने वाले मवेशी पालकों के विरूद्ध हो कार्यवाही…..

- मनीष शर्मा

मुंगेली: नगर पालिका से शिकायत है जिसकी शह पर मुंगेली की सड़कों को आवारा मवेशियों से लगभग पाट दिया गया है। इसके चलते सभी नगर वासियों को बेहद परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।मुंगेली की सड़कों पर सिर्फ गाय,सांड ही नहीं बल्कि सूअर, गधे, कुत्ते, जैसे जानवरों को स्वच्छंद विचरण करते हुए सहज ही देखा जा सकता है।

ये आवारा जानवर यातायात को जमकर प्रभावित करते हैं। सिर्फ प्रभावित ही नहीं बल्कि कई सड़क दुर्घटनाओं का कारण भी ये जानवर बन रहे हैं लेकिन इन पर कोई नियंत्रण नहीं कसा जा रहा है।इन आवारा जानवरों पर नियंत्रण लगाने की, नगर पालिका की कोई मंशा भी नजर नहीं आती है जिसके कारण लोगों में कई बार आक्रोश का वातावरण बना है।

नगर पालिका की अकर्मण्य कार्यप्रणाली के चलते ऐसे पशु पालकों के हौसले भी बुलंदी पर हैं जिनके द्वारा अपने पालतू मवेशियों को सड़क पर आवारा छोड़ दिया जाता है। वास्तव में ऐसे आवारा मवेशियों पर नही बल्कि उनके पालकों पर कार्यवाही किये जाने की आवश्यकता है।

गाय-सांड के साथ ही साथ आवारा कुत्ते और सूअरों ने तो शहर में जैसे कोहराम ही मचाकर रखा हुआ है लेकिन नगर पालिका के कर्णधारों पर जूं तक नहीं रेंग सकी है। थोक सब्जी बाजार में आवारा घूमने वाले सूअर, बिकने वाली सब्जी पर मुँह मारकर चलते बनते हैं और फिर इसी सब्जी को उसके विक्रेता के द्वारा अपने ग्राहक को बेच दिया जाता है।

सड़क पर इधर-उधर दौड़ते कुत्ते और सूअर सबसे ज्यादा वाहन दुर्घटनाओं का कारण बन रहे हैं। इन आवारा जानवरों के अचानक सामने आने पर वाहन चालक इनको तो बचा लेते हैं लेकिन इनको बचाने के प्रयास में वे स्वयं दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं लेकिन न जाने क्यों नगर पालिका के कर्त्ता धर्ताओं को इन आवारा मवेशियों से इतना स्नेह नजर आता है।

जिला प्रशासन से भी इस दिशा में कोई ठोस कदम उठाये जाने की अपेक्षा इसलिये भी नागरिकों को नहीं रह जाती है क्योंकि मुंगेली के नागरिक लंबे समय से देख रहे हैं कि यहाँ पदस्थ होने वाले जिलाधीशों के दिशा निर्देशों को तक जिम्मेदारों के द्वारा हवा में यूँ ही उड़ा दिया जाता है। ऐसे में शहरवासी हताश हैं कि वे किस अधिकारी से मुंगेली की सड़कों पर आवारा घूमने वाले मवेशियों पर नियंत्रण लगवाये जाने की उम्मीद करें।

Back to top button