छत्तीसगढ़

जनपद काम्पलैक्स की दुकान शील अवैध खरीदी बिक्री पर कार्यवाही

नगर के सामाजिक कार्यकर्ता एवं गणमान्य वरिष्ठ नागरिकों ने इसकी जांच कर कार्यवाही करने की मांग किया है

राजशेखर नायर

नगरी : जनपद काम्पलैक्स के दुकान मे अवैध खरीदी बिक्री पर जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी पी आर साहू ने कार्यवाही करते हुए दुकान को शील कर दिया है। पी आर साहू ने बताया कि मुझे जानकारी मिली की प्रिय दर्शनीय कामपलेकस की दुकान न0 3 जिसमें वर्तमान में सेमरा का कोई अन्य दुकानदार खरीदीकर शाप न0 3 जनपद पंचायत नगरी के बिना अनुमति के रिपेरिंग व टोडफोड किया जा रहा है तत्काल हमारे द्वारा पंचनामा कर दुकान को शील कर दिया गया है विभाग के लेखापाल भागवत प्रसाद सौरज, निरंजन यादव भृत्य, व विभागीय अधिकारी कर्मचारियों के उपस्थिति में शील बंद दुकान में किया गया

उल्लेखनीय है कि मेन रोड नगरी में जनपद पंचायत के दुकानों को नियम एवं शर्तो के तहत नीलामी कर स्थानीय लोगों को दुकान आंवटित किया गया था लेकिन देखने में आ रहा है कि जिसके नाम पर दुकानें है वो किसी अन्य व्यक्ति को मोटी रकम लेकर दुकान बेच दिया है जबकि अनुबंध के अनुसार कोई भी दुकानदार दुकान को बेच नहीं सकता और ना ही किसी प्रकार से नव निर्माण कर सकता है।

यह भी पढ़ें :-अवैध उत्खनन को लेकर प्रशासन सख्त,दो ट्रेक्टरों को तहसीलदार व उनकी टीम ने धर दबोचा

कई दुकानदार तो दो दुकानों को तोड़फोड़ परिवर्तन कर एक बना दिया गया है आपको बता दें कि जनपद काम्पलैक्स में नियमों की अवहेलना कर धज्जीयां उडाई जा रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जिसके नाम पर दुकान एलाट हुआ है वो व्यक्ति नियमों को धत्ता बता कर जनपद काम्पलैक्स की दुकान को लाखों की मोटी रकम लेकर एक अन्य व्यक्ति को बेच दिया है दुकान किसी और का है और दुकानदार कोई और है इसकी जांच होती है तो सच्चाई सामने आ जायेगी। नगर के सामाजिक कार्यकर्ता एवं गणमान्य वरिष्ठ नागरिकों ने इसकी जांच कर कार्यवाही करने की मांग किया है

मुझे शिकायत मिला था घटना स्थल में जाकर देखा तो शिकायत सही पाई गई जिस पर कार्यवाई करते हुये दुकान को शील कर आगे की कार्यवाही किया जा रहा है समान्य सभा की बैठक में प्रस्ताव लाकर उक्त दूकान की नीलामी की जाएगी..

पी आर साहू मुख्य कार्य पालन अधिकारी नगरी

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button