छत्तीसगढ़

मानव तस्करी में भाजपा के पूर्व मंत्री की संलिप्तता सिद्ध कर नाम उजागर करें अन्यथा शर्मनाक झूठ के लिए माफ़ी मांगें : भाजपा

कांग्रेस नेताओं में कीचड़ में पत्थर फेंककर भाग जाने की होड़, तथ्यहीन आरोप लगाकर झूठ फैला रहे और विरोधी राजनेताओं की चरित्र हत्या कर रहे

  • राजनांदगाँव की मानव तस्करी में एक पूर्व मंत्री की संलिप्तता का आरोप लगाने पर किरणमयी पर भाजपा प्रवक्ता शर्मा का तीखा हमला, कहा- बयान झूठ की बानगी
  • कांग्रेस के नेता अपराधों में भाजपा की भूमिका तलाशने और रोज़ एक नया झूठ गढ़ने में ताक़त जाया करने के बजाय पहले अपने दाग़दार दामन में झाँकने की कोशिश करें

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता नीलू शर्मा ने राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक के राजनांदगाँव में दिए गए उस बयान को चुनौती दी है, जिसमें महिला आयोग अध्यक्ष ने राजनांदगाँव की मानव तस्करी में एक पूर्व मंत्री की संलिप्तता का आरोप लगाया है।  शर्मा ने कटाक्ष किया कि इन दिनों कांग्रेस नेताओं में कीचड़ में पत्थर फेंककर भाग जाने की होड़ लगी है। ख़ुद को अव्वल साबित करने में लगे कांग्रेस नेताओं का तथ्यहीन आरोप लगाकर झूठ का रायता फैलाना और विरोधी राजनेताओं की चरित्र हत्या करना प्रिय शगल बन गया है।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता शर्मा ने राज्य महिला आयोग अध्यक्ष के बयान को शर्मनाक झूठ की बानगी बताते हुए चुनौती दी है कि वे मानव तस्करी के मामले में भाजपा के किसी भी पूर्व मंत्री की संलिप्तता को सिद्ध कर उसका नाम उजागर करें अन्यथा अपने इस शर्मनाक झूठ के लिए सार्वजनिक तौर पर बिना शर्त माफ़ी मांगें।

शर्मा ने कहा कि कीचड़ में पत्थर फेंककर किसी के भी दामन को दाग़दार करने की छूट कांग्रेस के नेताओं को महज़ इसलिए नहीं मिल जाती है कि वे सत्ता में हैं। सत्तावादी अहंकार में चूर कांग्रेस के नेताओं को इस तरह चरित्र हत्या की इजाज़त क़तई नहीं दी जा सकती। शर्मा ने कहा कि प्रदेशभर में रोज़ अपराध घट रहे हैं और प्रदेश सरकार उन अपराधों को रोक नहीं पा रही है। क़ानून को धता बताते अपराधी अब दुस्साहसी हो चले हैं।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता शर्मा ने कहा

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता शर्मा ने कहा कि क़ानून-व्यवस्था के मोर्चे पर अपने नाकारापन के चलते विफल प्रदेश सरकार का बचाव कर रहे कांग्रेस के नेता अपराधों में भाजपा की भूमिका तलाशने और रोज़ एक नया झूठ गढ़ने में अपनी ताक़त जाया करने के बजाय पहले अपने दाग़दार दामन में झाँकने की कोशिश करें। तमाम तरह के अपराधों और आरोपियों को राजनीतिक संरक्षण देने में कांग्रेस नेताओं या फिर उनके परिजनों-क़रीबियों की संलिप्तता जगज़ाहिर होने से बौखलाए कांग्रेस के नेता अब निम्नस्तरीय राजनीतिक हथकंडों को आजमाने में लग गए हैं।

शर्मा ने कहा कि राजधानी में ही अभी हाल ही गोलबाज़ार से एक व्यवसायी के अपहरण की वारदात में आरोपियों के सत्तारूढ़ दल का कार्यकर्ता होने और कांग्रेस नेताओं से संबंध होने की बात सामने आई है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button