जनता कर्फ्यू झारखंड के कई ग्रामीण इलाकों में लगा है

झारखंड के कुछ जिलों के ग्रामीण इलाकों में इन दिनों जनता कर्फ्यू लगा है. इन इलाकों में लोगों ने बाकायदा बोर्ड लगाकर बाहरी व्यक्तियों और सरकारी कर्मियों का आना आना रोक रखा है.

इतना ही नहीं ग्रामीणों ने बोर्ड में धारा 244 (1) का उल्लेख करते हुए लिखा है कि बिना ग्राम सभा के अनुमति के किसी भी सरकारी/गैर सरकारी कर्मचारी/पदाधिकारी का प्रवेश वर्जित है. दरअसल ग्रामीण सरकारी योजनाओं के धरातल पर नहीं उतरने से खफा हैं. दूसरी तरफ उद्योगों के जमीन के वास्ते दलाल भोले-भाले ग्रामीणों को फुसला कर आने-पौने दामों में जमीन का सौदा करने में लगे हैं.पुलिस की गश्त बढ़ाई गई

झारखंड के गुमला जिले के एक गांव की सीमा के बाहर लगे इस बोर्ड पर नजर दौड़ाइए. इसमें साफ़ शब्दों में चेतावनी दी गई है कि बिना ग्राम सभा की अनुमति के सरकारी या गैर सरकारी कर्मचारियों का प्रवेश निषेध है. दरअसल ग्रामीणों की नाराजगी की वजह जमीन के दलाल हैं, जो जमीन के लिए आदिवासियों को बरगला रहे हैं. यही हाल खूंटी जिले का भी है जहां ग्रामीणों ने इसी आशय का बोर्ड लगा रखा है. यहां तो बीते दिनों ग्रामीणों ने पुलिस के अधिकारियों को कुछ समय के लिए बंधक भी बनाया था.

पत्थलगड़ी की आड़ में साजिशें

पुलिस के आला अधिकारी इस सम्बन्ध में कुछ और ही दलीलें पेश करते हैं. उनका कहना है कि जिन इलाकों में ऐसे बोर्ड लगाए गए हैं, वे काफी दूर-दराज के हैं, इन जगहों पर नक्सली और दूसरे असामाजिक तत्व अफीम की खेती करवाने में लगे हुए हैं.

वहीं ग्रामीण भी अफीम से होने वाले मुनाफे की वजह से इनका साथ देते हैं. वहीं, इलाके के विधायक झारखंड के ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा का कहना है कि पत्थलगड़ी दरअसल एक प्राचीन परंपरा है, लेकिन इन दिनों कुछ शरारती तत्व भोले भाले ग्रामीणों को बरगला कर सरकार विरोधी दुष्प्रचार में जूटे हैं.

आखिर क्या है पत्थलगड़ी?

पत्थलगड़ी आदिवासियों की एक प्राचीन परंपरा है. इसमें पत्थर गाड़ कर इलाके को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया जाता है. यहां बिना ग्राम सभा की अनुमति के किसी भी दूसरे व्यक्ति का प्रवेश वर्जित नहीं होता.
वैसे खूंटी में पुलिस अधिकारियों को बंधक बनाने के सिलसिले में कांकि इलाके के ग्राम प्रधान को गिरफ्तार किया गया है.

Back to top button