शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन करना जनता का अधिकार : पराते

रायपुर : किसानों की जायज मांगों को लेकर विभिन्न किसान संगठन 21 सितंबर को विशाल आंदोलन करने की तैयारी कर ली है। किसान संगठनों के विरोध प्रदर्शन को रोकने प्रशासन ने भी अपनी तरफ से तैयारी में जुट गए हैं। संयुक्त किसान आंदोलन को कुचलने प्रशासन ने आंदोलन की अनुमति न देने और इसकी आड़ में किसान नेताओं को गिरफ्तार करने को लेकर मंगलवार को संजय पराते ने निंदा की। उन्होंने कहा है कि अपनी मांगों को लेकर शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन करना देश की आम जनता का अधिकार है । कोई भी सरकार इसे छीन नहीं सकती। किसान आंदोलन को इस तरह कुचलने के प्रयासों से स्पष्ट है कि यह सरकार आम जनता से किस कदर कट चुकी है और चुनाव-प्रेरित उसकी लोकलुभावन घोषणाएं काम नहीं आ रही हैं ।

Back to top button