राष्ट्रीय

पुजारी को महंगी पड़ी महिला से छेड़खानी भक्तों ने धुना, किन्नरों भी पिल पड़े

नोएडा: मंदिर में पूजा करने आए महिलाओं से छेड़-छाड़ का मामला एक बार फिर से सामने आया है. पुजारी कि हरकत जब हद से पार हो गई तो गांव की महिलाओं और पुरुषों ने मिलकर पुजारी की जमकर धुनाई की. पुजारी के इस हरकत का पता चलते ही किन्नरों ने भी पुजारी को जमकर पीटा. मामले की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँची, लेकिन गांव वालो के आक्रोश के आगे पुलिस की भी एक ना चली और लोगों ने पुलिस के सामने ही पुजारी को पीटा.

घटना ग्रेटर नोएडा के बादलपुर थाना क्षेत्र में पड़ने वाले धूममानिकपुर गांव की है. गांववालों ने बाबा कन्हैया गिरी नाम के इस पुजारी पर गांव की महिलाओं से छेड़छाड़ करने, कई हत्याएं करवाने और हथियारों की तस्करी करने का भी आरोप लगाया है.

गांव वाले काफी समय से आरोपी पुजारी की शिकायत कर रहे थे, लेकिन पुलिस पर कोई असर नहीं पड़ रहा था. आखिरकार गांव वालों ने जब महिला आयोग से पुजारी की शिकायत की तब जाकर पुलिस ने सुध ली. ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस भी कन्हैया गिरी से मिली हुई है और इससे पहले जब भी गांव वालों ने पुलिस में बाबा की शिकायत की, पुलिस ने बाबा को मौके से फरार होने में मदद की.

जानकारी के मुताबिक, गांव में दशकों पुराना एक शिव मंदिर है. पिछले 15 वर्षों से कन्हैया गिरी मंदिर की देखरेख और पूजा-पाठ करता आ रहा था. शुरुआत के कुछ वर्ष तो अच्छे बीते, लेकिन फिर धीरे-धीरे पुजारी का असली रंग सामने आने लगा. बीते कुछ वर्षों से आरोपी पुजारी का गांव की ही एक विधवा के घर आना-जाना बढ़ गया था. जब महिला की जेठानी ने पुजारी के घर आने का विरोध किया तो कन्हैया गिरी ने जान से मारने की धमकी तक दे डाली.

महिला के पति की करीब चार साल पहले किसी ने हत्या कर दी थी. गांव वालों को शक है कि महिला के पति की हत्या के पीछे कन्हैया गिरी का ही हाथ है. आखिरकार कन्हैया गिरी से तंग आकर महिला ने पुलिस से पुजारी के खिलाफ छेड़छाड़ की शिकायत की. महिला ने साथ ही कन्हैया गिरी पर छेड़छाड़ का विरोध करने पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप भी लगाया. लेकिन पुलिस ने महिला की शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं की.

आखिरकार जब कन्हैया गिरी की हरकतें हद से ज्यादा बढ़ गईं तो गांव की महिलाएं एकजुट होकर मंदिर पहुंचीं और कन्हैया गिरी सहित मंदिर में मौजूद सभी बाबाओं की धुनाई कर दी. महिलाओं ने मंदिर में खड़ी बाबा की कार को भी क्षतिग्रस्त कर दिया. गांव की महिलाओं ने बताया कि पुलिस ने हमारी एक नहीं सुनी तो हमने महिला आयोग से शिकायत की तब कहीं जाकर पुलिस ने सुध ली.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *