पल्स पोलियो अभियान : लगभग 36 लाख बच्चों को दी जाएगी खुराक

मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों से की सहयोग की अपील

रायपुर : राष्ट्र व्यापी पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण कल रविवार 11 मार्च से शुरू होने जा रहा है। छत्तीसगढ़ में भी इसकी तैयारी पूरी कर ली गई है । इस अभियान के तहत राज्य में शून्य से पांच वर्ष तक आयु समूह के लगभग 36 लाख बच्चों को पोलियो जनित विकलांगता से बचाने के लिए वैक्सीन की खुराक दी जाएगी। इसके लिए राज्य के सभी जिलों में विभिन्न सार्वजनिक भवनों, बस स्टैण्ड आदि में लगभग 14 हजार 408 टीकाकरण केन्द्र बनाए गए हैं।

इन केन्द्रों में बच्चों को पोलिया वैक्सीन की दो-दो बूंद पिलाने के लिए शासकीय कर्मचारियों और स्वास्थ्य मितानिनों सहित अन्य कर्मियों को मिलाकर 28 हजार 816 टीकाकरण दलों का गठन किया गया है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह तथा स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री अजय चंद्राकर ने प्रदेशवासियों से पल्स पोलियो अभियान में सक्रिय सहयोग की अपील की है।
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि अभियान में निजी अस्पतालों की भी मदद ली जा रही है, ताकि 0 से 5 वर्ष तक की उम्र का कोई भी बच्चा पोलियो ड्रॉप पीने से न छूटे। प्रदेश में लगभग 36 लाख बच्चों को करीब 14 हजार 4 सौ 8 पोलियो बूथ के माध्यम से पोलियो की दवा दी जाएगी। लगभग 28 हजार 8 सौ 16 टीम का गठन किया जा चुका है।

संचालक स्वास्थ्य ने आगे बताया कि इस अभियान के तहत जिले के पहुंच विहीन दूरस्थ क्षेत्रों, झुग्गी झोपड़ी, मलीन बस्ती, ईट भट्ठा, अस्थाई बसाहटों आदि क्षेत्रों के बच्चों को दवा पिलायी जायेंगी। इसके साथ ही चलित जनसंख्या के हितग्राही बच्चों को बस स्टैंड व रेल्वे स्टेशन आदि स्थानों पर ट्रांजिट दलों के माध्यम से बच्चों को पोलियो की दवा पिलाई जायेगी। मेला व हॉट बाजारों में भी दवा पिलाने के लिये दलों को तैनात किया जावेगा। शहर के बडे़ आवासीय क्षेत्रों में ही पोलियो बूथ सेंटर बनाया गया है। प्रदेश में पोलियो के एक भी प्रकरण नहीं मिला है, लेकिन आगामी कुछ साल तक बच्चों को पोलियो की दवा नियमित देना जरूरी है। ताकि उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता बनी रहे।

1
Back to top button