पुलवामा: पाकिस्तान से ले लिया गया मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा

शनिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाएगी सरकार

नई दिल्ली: पुलवामा जिले में हुए आतंकवादी हमले के खिलाफ हुए सीसीएस की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अहम फैसला लेते हुए सभी जवानों को हमला के लिए बोल दिया गया है. साथ ही पाकिस्तान को दिया गया मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफ़एन) का दर्जा भी वापस ले लिया गया है.

सीसीएस की बैठक के बाद जेटली ने कहा कि विदेश मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान को पूर्ण रूप से अलग-थलग करने के लिए राजनयिक कदम उठाएगा. उन्होंने कहा कि सरकार शनिवार को सर्वदलीय बैठक बुलाएगी. जेटली ने कहा कि इस क्रूर घटना को अंजाम देने वालों और इसका समर्थन करने वालों को भारी कीमत चुकानी पड़ेगी.

क्या है मोस्ट फेवर्ड नेशन ?

विश्‍व व्‍यापार संगठन और इंटरनेशनल ट्रेड नियमों के आधार पर व्यापार में सर्वाधिक तरजीह वाला देश (एमएफएन) का दर्जा दिया जाता है. एमएफएन के तहत आश्वासन रहता है कि उसे कारोबार में नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा. एमएफएन के तहत आयात-निर्यात में आपस में विशेष छूट मिलती है. यह दर्जाप्राप्त देश कारोबार सबसे कम आयात शुल्क पर होता है.

सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति की बैठक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई और बैठक में केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज मौजूद थे. बैठक के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन (एमएफएन) का दर्जा वापस ले लिया गया है.

शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों ने हमले और राज्य में सुरक्षा के संबंध में अपनी प्रस्तुतियां दी हैं. गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में बृहस्पतिवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी, जिसमें कम से कम 37 जवान शहीद हो गए जबकि कई गंभीर रूप से घायल हैं.

Back to top button