पुलवामा: शहीद हुए जवानों का आज होगा अंतिम संस्कार

पैतृक गांवों में किया जाएगा अंतिम संस्कार

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए जिले के जवानों का आज उनके पैतृक गांवों में अंतिम संस्कार किया जाएगा। सभी जवानों का अपने-अपने गांवों में अंतिम संस्कार किया जाएगा। डीएम ने शुक्रवार रात दोनों परिवारों के यहां जाकर उनकी सहमति से अंत्येष्टि का समय तय कर दिया है।

दोनों जवानों के शव रात को दिल्ली पहुंच गए थे। डीएम अखिलेश सिंह ने बताया कि मध्यरात्रि तक दोनों के शव दिल्ली से सीधे उनके निवास स्थानों पर पहुंचेंगे। दोनों परिवारों की सहमति से अंत्येष्टि का समय भी तय कर दिया गया है।

बनत के शहीद जवान प्रदीप की अंत्येष्टि गांव में होगी। उधर, शहर के रेलपार कालोनी निवासी अमित की अंत्येष्टि इसके बाद करीब सुबह साढ़े नौ बजे होगी। केंद्र सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर केंद्रीय मंत्री सतपाल सिंह और प्रदेश सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर गन्ना मंत्री सुरेश राणा मौजूद रहेंगे। प्रशासनिक, पुलिस अधिकारी भी इसमें शामिल रहेंगे। उधर देर रात गन्ना मंत्री सुरेश राणा शामली के लिए रवाना हो गए थे।

25 लाख और परिवार के एक सदस्य को मिलेगी नौकरी

शामली। प्रदेश के गन्ना मंत्री ने बताया कि प्रदेश सरकार ने प्रदेश के शहीद जवानों के परिजनों को 25-25 लाख रुपये राशि और एक सदस्य को नौकरी और उनके गांव के लिंक मार्ग का नाम शहीद के नाम पर रखने का निर्णय लिया है। प्रदेश सरकार पूरी तरह शहीद परिवारों के साथ खड़ी है।

अंत्येष्टि तक जनपद के बाजार बंद रखने का आह्वान

शामली। पश्चिमी उत्तर प्रदेश संयुक्त उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेशाध्यक्ष घनश्याम दास गर्ग ने बताया कि आतंकी हमले में शहीद जनपद के दोनों जवानों की अंत्येष्टि होने तक शामली शहर और सभी कस्बों के व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखने की अपील की गई है। अपील की गई है कि सभी दुकानदार अपनी दुकानें बंद रखकर शहीदों को अपनी श्रद्धांजलि दें।

Back to top button