राष्ट्रीय

हनीप्रीत का लाई डिटेक्टर टेस्ट की तैयारी में पुलिस

पंचकूला: डेरा प्रमुख राम रहीम की सजा के बाद हिंसा भड़काने की आरोपी हनीप्रीत को पूछताछ के लिए हरियाणा पुलिस गुरुवार को पंजाब के संगरूर ले गई।

हनीप्रीत के साथ उनकी साथी सुखदीप भी हैं। इससे पहले पुलिस गुरुवार सुबह उन्हें पंचकूला के सेक्टर-20 थाने ले गई थी।

वहां से पुलिस हनीप्रीत को लेकर संगरूर के भवानीगढ़ थाने पहुंची। यहां उनसे पूछताछ की गई।

सूत्रों के मुताबिक, हनीप्रीत जांच में पुलिस से सहयोग नहीं कर रहीं। पुलिस अब हनीप्रीत का लाई डिटेक्टर टेस्ट करने की तैयारी कर रही है।

बता दें कि हनीप्रीत के साथ बड़ी संख्या में सुरक्षाकर्मी मौजूद थे। इससे पहले कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में हनीप्रीत को बुधवार को अदालत में पेश किया गया था।

पेशी के वक्त हनीप्रीत भावुक हो गई थीं। वह हाथ जोड़कर रो पड़ी थीं। कोर्ट में हनीप्रीत ने खुद को निर्दोष बताया था।

पुलिस ने हनीप्रीत को 14 दिन की रिमांड पर दिए जाने की मांग की, लेकिन छह दिन की ही रिमांड मिली।

पुलिस अब पता लगाएगी कि पंचकूला दंगे में हनीप्रीत की क्या भूमिका रही। पुलिस ने कहा था कि उन्हें हनीप्रीत का मोबाइल फोन चाहिए।

पुलिस के मुताबिक, हनीप्रीत ने हिंसा के दिन इस मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया था। इसके अलावा, जब वह फरार चल रही थीं, उस वक्त भी वह अपने मोबाइल के जरिए लोगों के संपर्क में थीं।

वहीं हनीप्रीत के वकील एसके गर्ग ने कहा कि उनके मुवक्किल पर किसी भी तरह से राजद्रोह का केस नहीं बनता है। वकील ने बताया कि कोर्ट में हनीप्रीत ने कहा कि वह बेकसूर है, उसने कोई भी गलत काम नहीं किया है।

उधर, हरियाणा पुलिस ने दावा किया है कि पंचकूला समेत दूसरे इलाकों में 25 अगस्त को हुई तोड़फोड़, आगजनी और दंगे का षड्यंत्र 17 अगस्त को उसी दिन रच लिया गया था जब डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम से जुड़े साध्वी यौन शोषण मामले में सीबीआई कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

यह दावा हरियाणा पुलिस ने हनीप्रीत को सीबीआई कोर्ट में पेश करते हुए किया। पुलिस ने दावा किया कि यह खुलासा हनीप्रीत से पूछताछ के दौरान हुआ है।

पुलिस ने कोर्ट से हनीप्रीत का 14 दिन का पुलिस रिमांड की मांग करते हुए यह खुलासा किया और यही तर्क हनीप्रीत की 6 दिन की पुलिस रिमांड का बड़ा आधार बना।

कोर्ट को बताया गया कि 17 अगस्त को जब डेरा प्रमुख पर साध्वी यौन उत्पीडऩ पर सीबीआई कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा तो इसके तुरंत बाद डेरा के कुछ गिने-चुने लोगों की अहम बैठक हुई थी। यह बैठक काले रंग की एक कार में हुई। यह कार पुलिस के कब्जे में है।

पुलिस के मुताबिक ऐसी जानकारियां सामने आई हैं कि 17 अगस्त को हुई इस बैठक में ही 25 अगस्त के लिए पूरा प्लान तैयार कर लिया गया था।

बैठक में गुरमीत राम रहीम के अलावा उसका निजी सचिव राकेश व मुख्य सुरक्षा अधिकारी प्रीतम सिंह भी मौजूद थे।

हनीप्रीत के इस बैठक में शामिल होने की पुष्टि पुलिस ने की है। उल्लेखनीय है कि राकेश व प्रीतम सिंह पहले ही पुलिस गिरफ्त में आ चुके हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
हनीप्रीत
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *