पंजाब के बलविंदर सिंह नकई दोबारा चुने गए इफको के चेयरमैन

पूर्व मंत्री दिलीप संघानी को वाइस चेयरमैन चुना गया

नई दिल्ली: दुनिया की सबसे बड़ी फर्टिलाइजर को-ऑपरेटिव इफको में पंजाब के बलविंदर सिंह नकई दोबारा चेयरमैन चुन लिए गए जबकि गुजरात के अमरेली से 4 बार सांसद रहे पूर्व मंत्री दिलीप संघानी को वाइस चेयरमैन चुना गया.

दुनिया की सबसे बड़ी फर्टिलाइजर को-ऑपरेटिव इफको की 48वीं सालाना आमसभा नई दिल्ली में हुई. 35000 को-ऑपरेटिव सोसाइटी के सदस्यों ने इफको के निदेशक मंडल में 21 डायरेक्टर का चुनाव किया और फिर निदेशकों ने चेयरमैन और वाइस चेयरमैन का चुनाव किया.

बलविंदर सिंह नकई तीन दशक से सहकारिता आंदोलन में सक्रिय किसान नेता हैं. वह वर्तमान में मालवा फ्रूट एंड वेजिटेबल को-ऑपरेटिव मार्केटिंग कम प्रोक्योरमेंट सोसाइटी के चेयरमैन भी हैं. चेयरमैन बनने से पहले भी नकई दो बार इफको के वाइस चेयरमैन रह चुके हैं. इफको के वाइस चेयरमैन चुने गए दिलीप संघानी गुजरात की अमरेली सीट से चार बार लोकसभा सांसद रह चुके हैं और गुजरात सरकार में कई विभागों के मंत्री भी रहे हैं.

दिलीप संघानी पहली बार 2018 में इफको के निदेशक मंडल में चुनकर आए थे और इस बार दोबारा निदेशक बनने के साथ-साथ वाइस चेयरमैन बनने में भी कामयाब रहे हैं. संघानी गुजरात स्टेट को-ऑपरेटिव मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड के चेयरमैन हैं. 2018-19 में 81 लाख मीट्रिक टन फर्टिलाइजर बनाने वाली इफको का पिछले वित्त वर्ष का टर्नओवर 27852 करोड़ था.

दुनिया की सबसे बड़ी फर्टिलाइजर को-ऑपरेटिव इफको जिसका टर्नओवर वित्त वर्ष 2018-19 में 27852 करोड़ रुपये रहा. यह प्रतिवर्ष 81.49 लाख मीट्रिक टन फर्टिलाइज़र का उत्पादन करती है. फर्टिलाइज़र के अलावा, इफको जनरल इंश्योरेंस, रूरल मोबाइल टेलीफोनी, ऑयल एवं गैस जैसे अन्य सेक्टर में भी है.

Back to top button