छत्तीसगढ़

सुरक्षा के साए में पहुंचे राहुल बस्तर : एनएसजी की तैयारी परिंदा भी पैर नहीं मार सके

– अनुराग शुक्ला

जगदलपुर. राहुल गांधी के बस्तर प्रवास के दौरान उनकी सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम एनएसजी ने किए थे। यह पहला मौका जब सुरक्षा इतनी कड़ी थी कि मीडिया तो दूर कांग्रेसी भी राहुल से रूबरू नहीं हो सके। शुक्रवार को उनका विमान निर्धारित साढ़े तीन बजे एयरपोर्ट में लैंड किया। इसके बाद करीब पंद्रह मिनट में कांग्र्रेस के राज्य व

राष्ट्रीय नेतृत्व से वहां मिले। उनके स्वागत के लिए बस्तर के विधायकों को एयरपोर्ट जाने की अनुमति दी गई। इधर एयपोर्ट के मेन गेट पर पुलिस बल तैनात रहा। राहुल को एयपोर्ट के पीछे के गेट से सीधे हाईवे पर निकाला गया। इस दौरान वे अपनी काली गाड़ी में बैठे हुए थे। यहां से उन्हें सीधे सुरक्षा के घेरे में गणपति रिसार्ट ले जाया गया। राहुल की मंशा रही कि वे बस्तर आएं और कांग्रेसियों के ट्रेनिंग प्रोग्राम में शामिल हों। इसके चलते जैसे ही गणपति रिसार्ट में उनका प्रवेश होने को था। इससे पहले ही करीब एक किमी के दायरे को पुलिस ने छावनी में तब्दील कर दिया। सोढ़ी पेट्रोल पंप के पास ही आवागमन को रोक दिया गया। राहुल के कार्यक्रम स्थल पर प्रवेश करते ही रिसार्ट के दरवाजे को बंद कर दिया। इसके बाद उन्हें कांग्रेस की परंपरा अनुसार सेवादल के सदस्यों ने सलामी दी। नीला जीन्स, सफेद कुर्ताे और काली चप्पल पहने राहुल गांधी ने सलामी ली और इसके बाद वे ट्रेनिंग प्रोग्राम में चले गए।

मीडिया का प्रवेश प्रतिबंधित
बताया गया कि राहुल के संगठनात्मक कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर मीडिया के प्रवेश पर रोक लगा दिया गया था। यहां पर उनके कवरेज के लिए पीटीआई और एएनआई को अधिकृत किए जाने की बात कही गई। इधर राहुल शनिवार को मारकेल में होने वाली आमसभा को संबोधित करेंगे। इसके लिए कांग्रेस की ओर से मीडिया के प्रवेश को लेकर पास जारी किए जाने की बात कही गई।

बाधित रहा मार्ग
राहुल के आने के बाद से दण्डामी माडिया चौक से लेकर एनएमडीसी चौक और हाईवे के दोनों ओर रायपुर मार्ग पर आमागुड़ा चौक और ओडिशा की ओर आड़ावाल तक यातायात को रोका गया था। इस बीच हाईवे पर सन्नाटा पसरा रहा। मवेशियों को भी पुलिस कर्मी दौड़ाते देखे गए। कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के प्रस्तावित कार्यक्रम के तहत सर्किट हाउस तक पहुंचने वाले सभी मार्ग को भी उनके पहुंचने के एक घंटे पहले ही बाधित कर दिया गया।

पहला नागरिक ही नहीं मिल सका राहुल से
राहुल गांधी के एयरस्ट्रीप में होने वाले स्वागत को लेकर जो सूची तैयार की गई थी उसमें बस्तर के विधायक और नेताओं के नाम शामिल थे। इसमें महापौर जतीन जायसवाल का नाम भी शामिल था। वे एयरस्ट्रीप गए भी लेकिन राहुल के आने के पहले ही वे एयरपोर्ट से बाहर निकल आए। वहां क्या हुआ यह तो स्पष्ट नहीं है लेकिन जब शहर के प्रथम नागरिक से चर्चा की गई तो उन्होंने कहा कि राहुल जी के प्रवास के दौरान उनकी जिम्मेदारियां अधिक है। अपनी व्यस्तता और खुद को सर्किट हाउस की व्यवस्था में लगे होने का हवाले देते महापौर ने बात को आया गया किया।

Tags
Back to top button