बड़ी खबरराजनीतिराष्ट्रीय

राहुल गांधी- हिम्मत है तो PM मोदी बिना पुलिस छात्रों से मिले

राहुल गांधी ने कहा, मैं प्रधानमंत्री को चैलेंज करता हूं कि वो किसी भी यूनिवर्सिटी में बिना अपनी पुलिस और सुरक्षाकर्मियों के जाकर स्टूडेंट्स को यह बताएं कि देश के यूथ के लिए उनकी क्या विज़न (दृष्टि) है.

नई दिल्ली: कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) मुद्दे पर सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी में विपक्षी दलों की बैठक बुलाई. इस मीटिंग के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि युवाओं की समस्या का समाधान करने के बजाय नरेंद्र मोदी देश का ध्यान बांटने और लोगों में फूट डालने की कोशिश कर रहे हैं. युवाओं की आवाज वैध है, इसे दबाया नहीं जाना चाहिए, सरकार को इसे सुनना चाहिए.

राहुल गांधी ने कहा, मैं प्रधानमंत्री को चैलेंज करता हूं कि वो किसी भी यूनिवर्सिटी में बिना अपनी पुलिस और सुरक्षाकर्मियों के जाकर स्टूडेंट्स को यह बताएं कि देश के यूथ के लिए उनकी क्या विज़न (दृष्टि) है.

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल ने कहा, ”मोदी में युवाओं को यह बताने का साहस होना चाहिए कि भारतीय अर्थव्यवस्था एक विपत्ति क्यों बन गई है? उनमें छात्रों के सामने खड़े होने की हिम्मत नहीं है.

विपक्षी दलों की बैठक के बाद सीपीआई के नेता डी. राजा ने मीडिया से कहा, विपक्षी नेताओं ने नागरिकता संशोधन अधिनियम और एनआरसी के खिलाफ ‘देश बचाओ, लोकतंत्र बचाओ, संविधान बचाओ’ की भावना के साथ 23, 26 और 30 जनवरी के दिन देश के नागरिकों को लामबंद करने का फैसला किया है.’

विपक्षी दलों की बैठक में समाजवादी पार्टी और द्रमुक शामिल नहीं हुए. समान विचारधारा वाले दलों के साथ की जा रही इस बैठक से तृणमूल कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने पहले ही किनारा कर लिया था. वहीं, शिवसेना और आम आदमी पार्टी (आप) का कहना है कि उन्हें इस बैठक के लिए आमंत्रित ही नहीं किया गया. बता दें कि कुल 15 दलों ने बैठक में भाग लिया.

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) से उपेंद्र कुशवाहा और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) से जीतन राम मांझी बैठक में शामिल हुए. इसके अलावा इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के नेता पी. कुन्हलि कुट्टी, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के प्रमुख सिराजुद्दीन अजमल और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के नेता डी. राजा ने भी बैठक में हिस्सा लिया.

इस मीटिंग की अध्यक्षता कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने की. इसमें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) सुप्रीमो शरद पवार, मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेता सीताराम येचुरी, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सहित अन्य नेता शामिल हैं.

पक्षी नेता सीएए के खिलाफ एक संयुक्त रणनीति को औपचारिक रूप देने के लिए विचार-विमर्श किया. इस नए कानून के विरोध में देशभर में प्रदर्शन जारी है.

Tags
Back to top button