केरल की वायनाड लोकसभा सीट से भी चुनाव लड़ेंगें राहुल गांधी, जानें क्या है वजह

नई दिल्ली। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी इस बार का लोकसभा चुनाव दो जगह अमेठी और केरल की वायनाड लोकसभा सीट से लड़ेंगे। पार्टी के सीनियर नेता और पूर्व रक्षामंत्री एके एंटनी ने आज मीडिया को यह जानकारी दी। इस मौके कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने राहुल गांधी दो जगह से चुनाव लड़ने का कारण बताया और कहा कि अमेठी राहुल गांधी की कर्मभूमि है वह हमेशा यहां से चुनाव लड़ते रहेंगे।

वायनाड से चुनाव लड़ने का कारण-

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के अनुसार, केरल की वायनाड सीट दक्षिण भारत के तीन राज्यों से तमिलनाडु, कर्नाटक और केरल के बीच में है इसलिए यहां से चुनाव लड़कर राहुल गांधी दक्षिण भारत के तीन राज्यों का प्रतिनिधित्व कर पाएंगे। उन्होंने बताया कि पिछले काफी समय से तीनों राज्यों के लोगों की मांग थी कि राहुल गांधी उत्तर भारत के साथ ही दक्षिण भारत को भी अपना नेतृत्व प्रदान करें इसलिए राहुल गांधी ने केरल की वायनाड सीट से चुनाव लड़ने का फैसला किया।

सुरजेवाला ने बताया कि उत्तर भारत और दक्षिण भारत के खान-पान और संस्कृति में काफी अंतर है ऐसे में राहुल गांधी यहां से चुनाव लड़कर इस दो इलाकों की एकता को और मजबूती प्रदान करने का काम करेंगे।

केरल की 20 लोकसभा सीटों में से एक वायनाड भी है। केरल का यह जिला अपनी प्राकृतिक सुंदरता और वायनाड वाइल्ड लाइफ सैंक्चुरी के लिए मशहूर है। यहां हाथी और बाघ जैसे जानवार देखने को मिलते हैं। वायनाड एक अलग जिले के रूप में 1 नवंबर 1980 को अस्ति त्वल में आया। इसे कोझिकोड और कन्नूकर से अलग करके जिला बनाया गया था।

यहां का व्यगथरी जैन मंदिर काफी प्रसिद्ध है। वायनाड में टीपू सुल्ता न के शासनकाल में अंग्रेजों ने हमला किया था। इस जिले की सीमाएं कर्नाटक और तमिलनाडु से मिलती हैं। वायनाड एक नवसृजित लोक सभा क्षेत्र है और इसमें 3-3 जिले कोझिकोड, वायनाड और मलप्पुसरम के 7 विधानसभा क्षेत्रों को शामिल किया गया है।

यहां की 93.15 फीसदी आबादी ग्रामीण है और महज 6.85 फीसदी लोग शहरों में रहते हैं। पिछले बार के लोकसभा चुनाव में कुल 73 फीसदी यानि 915066 लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया ता, जिसमे से पुरुष मतदाताओं की संख्या 454300 और महिला मतदाताओं की संख्या 460706 है।

Back to top button