तेलंगाना में राहुल की सभा कहा- झूठे वादे सुनने हैं तो केसीआर और मोदी के पास जाएं

उनकी पार्टी सत्ता में आएगी तो किसानों के दो लाख रुपये तक के कृषि कर्ज माफ कर दिए जाएंगे

हैदराबाद। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि तेलंगाना में अगर उनकी पार्टी सत्ता में आएगी तो किसानों के दो लाख रुपये तक के कृषि कर्ज माफ कर दिए जाएंगे.

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव पर झूठे वादे करने और भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप लगाया.

तेलंगाना विधानसभा के 7 दिसंबर को होने वाले चुनावों के लिए पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने यहां निर्मल जिले में एक जनसभा को संबोधित किया.

उन्होंने आरोप लगाया कि राव ने भीमराव आंबेडकर के नाम पर रखी गई परियोजना का नाम बदलकर उनका अपमान किया है.

केसीआर और मोदी पर निशाना

गांधी ने कहा, ‘तेलंगाना में परिवर्तन आएगा. केसीआर सरकार जाएगी और दिल्ली में नरेंद्र मोदी की सरकार भी जाएगी. मैं यहां झूठे वादे करने नहीं आया हूं.

अगर आप झूठे वादे सुनना चाहते हैं तो केसीआर और मोदी के पास जाएं, वे आपसे झूठे वादे करेंगे.’

तेलंगाना राष्ट्र समिति के प्रमुख पर निशाना साधते हुए गांधी ने आरोप लगाया कि उन्होंने परियोजना की डिजाइन बदल दी जिससे इसकी लागत 38 हजार करोड़ से बढ़कर एक लाख करोड़ रुपये हो गई.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘इसे (परियोजना को) एक लाख करोड़ का क्यों बनाया गया? क्योंकि मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार करना चाहते थे.’

गांधी ने कहा कि राजीव सागर और इंदिरा सागर परियोजनाओं में भी मूल लागत बढ़ाई गई. कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया, ‘जब भी आप देखेंगे मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार में संलिप्त होते हैं तो फायदा उनके परिवार, रिश्तेदारों को मिलता है. जैसे ही वह मुख्यमंत्री बनें (केसीआर) भ्रष्टाचार में शामिल हो गए और सभी फायदे अपने परिवार को देने लगे.’

किसानों की मदद का आश्वासन

गांधी ने वादा किया कि कांग्रेस जब भी केंद्र और राज्य में सत्ता में आएगी तो वह जनजातीय अधिकार विधेयक और भूमि अधिग्रहण कानूनों का अक्षरश:

लागू करेगी. उन्होंने कहा, कांग्रेस पार्टी वादा करती है कि कृषि कर्ज का दो लाख रुपया एक बार में माफ किया जाएगा.

सिर्फ इतना ही नहीं हम यह भी सुनिश्चित करेंगे कि कपास के लिए 7000 रुपये प्रति क्विंटल का दाम मिले. ‘ साथ ही उन्होंने कहा, न तो मोदी और न ही केसीआर किसानों को उनके उत्पादों का अच्छा मूल्य दिला सके.

Back to top button