बाल शोषण मामले को रोकने के लिए छग समेत 14 राज्यों के 77 ठिकानों में छापा….

सीबीआई से मिली जानकारी के मुताबिक CBI ने 83 आरोपियों के खिलाफ 23 मामले दर्ज कर ये छापेमारी की. आरोप है कि वे लोग अलग-अलग सोशल मीडिया के जरिए बच्चों के यौन शोषण (Child Sexual Abuse) से जुड़ी सामग्री को प्रसारित करने में लगे थे. ये भी आरोप है कि वे लोग बाल यौन शोषण से जुड़े वीडियो, उनके लिंक शेयर करके गैर-कानूनी तरीके से कमाई कर रहे थे. छत्तीसगढ़ के कोरबा में भी सीबीआई की टीम ने छापा मारा है.

जानकारी के मुताबिक सीबीआई ने केस दर्ज कर तिरुपति, कनेकल (आन्ध्र प्रदेश), दिल्ली, कोन्च-जालौन, मऊ, चन्दौली, वाराणसी, गाजीपुर, सिद्धार्थनगर, मुरादाबाद, नोएडा, झांसी, गाजियाबाद, मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश), जूनागढ़, भावनगर, जामनगर (गुजरात), संगरुर, मलेरकोटला, होशियारपुर, पटियाला (पंजाब), पटना, सिवान (बिहार), यमुना नगर, पानीपत, सिरसा, हिसार (हरियाणा), भद्रक, जाजपुर, ढ़ेकनाल (ओडिशा), त्रिरूवलूर, कोयम्बटूर, नमक्काल, सलेम, तिरुवन्नामलाई (तमिलनाडु), अजमेर, जयपुर, झुंनझुनु, नागौर (राजस्थान),  ग्वालियर (मध्य प्रदेश), जलगॉव, सलवाड़, घुले (महाराष्ट्र), कोरबा (छत्तीसगढ़) और सोलन (हिमाचल प्रदेश) में छापे मारे.

100 से अधिक देशों के नागरिकों की हो सकती है संलिप्तता

सीबीआई ने कहा कि शुरुआती तौर पर पता चला है कि इसमें 100 देशों से अधिक के नागरिकों की संलिप्तता हो सकती है. सीबीआई अपनी सहयोगी एजेंसियों के साथ औपचारिक और अनौपचारिक माध्यमों से समन्वय कर रही है. छापेमारी अभी जारी है और इसमें और मोड़ भी आ सकते हैं.

अभी तक की छापेमारी के दौरान सीबीआई ने कई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण, मोबाइल और लैपटॉप आदि जब्त किए हैं. यह पता चला है कि कुछ लोग बाल यौन शोषण सामग्री को बेचने के काम में भी संलिप्त थे. एजेंसी ने कहा कि हम अभी जांच कर रहे हैं और मामले में उचित कार्रवाई की जाएगी.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button